ईश्वर के प्रेम की शक्ति से रूपांतरित होना

बपतिस्मा के द्वारा हम सभी येसु ख्रीस्त के शिष्य बन गये हैं एवं उनका अनुसरण करते हुए पवित्रता के रास्ते पर आगे बढ़ने के लिए बुलाये गये हैं। पोप ने 6 अगस्त के ट्वीट संदेश में येसु के शिष्य होने का अर्थ बतलाया।
6 अगस्त को काथलिक कलीसिया प्रभु के रूपांतरण का पर्व मनाती है। सुसमाचार लेखक संत लूकस बतलाते हैं कि जब येसु पेत्रुस, याकूब और योहन के साथ एक पहाड़ पर प्रार्थना कर रहे थे तो उनके मुख मंडल का रूपांतरण हो गया था और उनके वस्त्र उज्ज्वल होकर जगमगा उठे थे। येसु ने इस घटना के पूर्व, अपने शिष्यों से कहा था, "जो मेरा अनुसरण करना चाहता है वह आत्मत्याग करे और प्रतिदिन अपना क्रूस उठाकर मेरे पीछे हो ले।"
बपतिस्मा के द्वारा हम सभी येसु ख्रीस्त के शिष्य बन जाते हैं एवं उनका अनुसरण करते हुए पवित्रता के रास्ते पर आगे बढ़ने के लिए बुलाये जाते हैं।
पोप फ्राँसिस ने 6 अगस्त के ट्वीट संदेश में विश्वासियों को सम्बोधित कर कहा, "येसु के शिष्य होने और पवित्रता के रास्ते पर आगे बढ़ने का अर्थ है सबसे पहले अपने आपको ईश्वर के प्रेम की शक्ति से रूपांतरित होने देना।"

Add new comment

14 + 2 =