सन्त फ्रांसिस ज़ेवियर

भारत और जापान के प्रेरित तथा सन्त पौलुस जैसे उत्साही एवं साहसी मिशनरी सन्त फ्रांसिस ज़ेवियर का जन्म स्पेन देश में ज़ेवियर के किले में सन 1502 ईस्वी में हुआ। बाल्यावस्था से ही उनकी बुद्धि अत्यंत तीव्र थी। अपने ही देश में प्रारंभिक अध्ययन पूर्ण करने के पश्चात् सन 1525 में वे फ़्रांस के सुप्रसिद्ध पेरिस विश्वविद्यालय में भर्ती हो गए। वहाँ  उन्होंने बड़ी योग्यता के साथ दर्शन-शास्त्र में उच्च उपाधियाँ हासिल की।
युवक फ्रांसिस के हृदय में यही तीव्र अभिलाषा थी कि दर्शन-शास्त्र में आचार्य का पद प्राप्त कर विश्व विख्यात बनें। किन्तु विश्वविद्यालय के जीवन के दौरान उनका संपर्क सन्त इग्नासियुस लोयोला के साथ हुआ जिन्होंने सब सांसारिक सुख एवं यश का परित्याग कर प्रभुवर ख्रीस्त के चरणों में अपना जीवन समर्पित कर दिया था। इग्नासियुस स्वयं भी वहाँ अध्ययन कर रहे थे। प्रभु प्रेम से प्रज्जवलित इग्नासियुस के प्रभाव से फ्रांसिस बच नहीं सकें। बिना देरी वे दोनों घनिष्ठ मित्र बन गए। इग्नासियुस चाहते थे कि फ्रांसिस को भी ख्रीस्त के चरणों में ले आये। अतः वे प्रभु येसु के इन शब्दों को बार-बार फ्रांसिस के कानों में दोहराते थे- "मनुष्य को इससे क्या लाभ, यदि वह सारा संसार प्राप्त कर ले, किन्तु अपनी आत्मा को ही गवाँ दे?"(सन्त मत्ती 16:26)
इस बात को बार-बार सुनते हुए फ्रांसिस उस पर मनन करने लगे। धीरे-धीरे प्रभु की कृपा से उनका मन बदल गया और उन्होंने इग्नासियुस से सामान सभी सांसारिक मोह छोड़ देने और प्रभुवर ख्रीस्त के लिए अपना जीवन समर्पित करने का दृढ संकल्प किया। उनके साथ अन्य पांच साथी और जुड़ गए। उनके साथ मिलकर सन्त इग्नासियुस ने 'येसु-समाज' नामक धार्मिक संस्था की स्थापना की। इस संस्था का लक्ष्य था- ख्रीस्त के वीर सैनिक बनकर संसार में चरों ओर उनके सुसमाचार का प्रचार करना तथा बालकों व युवाओं को ख्रीस्तीय शिक्षा दे कर प्रेम, न्याय एवं समानता पर आधारित समाज  निर्माण के लिए प्रशिक्षण देना। प्रकार सम्पूर्ण मानव समाज को ख्रीस्त के चरणों में लाना। इस लक्ष्य को लेकर फ्रांसिस पुरोहित बने। सन 1537 में रोम में उनका पुरोहिताभिषेक संपन्न हुआ। चालीस दिनों के कड़े उपवास और आध्यात्मिक साधना के पश्चात् ही उन्होंने अपना प्रथम ख्रीस्त-याग अर्पित किया।
तत्पश्चात फ्रांसिस अपने समाज के उच्च अधिकारी एवं अपने परम मित्र इग्नासियुस लोयोला के साथ रोम में रहकर उनके कार्य में सहायता करने लगे। इस बीच पोर्तुगाल के राजा जॉन तृतीय ने सन्त इग्नासियुस से निवेदन किया कि वे भारत एवं पूर्वी देशों में सुसमाचार प्रचार के लिए येसु समाजी मिशनरियों को भेजे। क्योंकि उन दिनों इन देशों में पुर्तगाल के उपनिवेश स्थापित हो चुके थे। इस कार्य के लिए राजा उन्हें यथासंभव सहायता देने के लिए तैयार थे। सन्त इग्नासियुस ने इस कार्य के लिए फ्रांसिस को सर्वाधिक योग्य मानकर उन्हें भारत जाने के लिए नियुक्त किया। अतः वे तुरंत पोर्तुगल की राजधानी लिस्बन चले गए। वहाँ राजा से आवश्यक अनुमति पत्र आदि प्राप्त किया। तब वे पुर्तगाली राजदूत एवं अन्य यात्रियों के साथ भारत आने के लिए सन 1541 में जहाज द्वारा रवाना हुए। 13 महीनों की लम्बी एवं कष्टदायक यात्रा के बाद उनका जहाज भारत के पश्चिमी तट पर गोवा के बंदरगाह में आ पहुंचा।  मार्ग में अनेकों यात्री बीमार पड़ गए थे। फ्रांसिस ने बड़े प्रेम से उन सबकी सेवा की और ईश-वचन सुना कर उन्हें सांत्वना दी।
शीघ्र  फ्रांसिस ने गोआ में अपना कार्य शुरू किया। सबसे पहले वहाँ की भाषा और रीती-रिवाज सीखें। तब लोगों को प्रवचन देना, रोगियों से मिलना और उनके लिए प्रार्थना करना आदि कार्य उन्होंने बड़े उत्साह के साथ किये। तब वहाँ से दक्षिण की ओर गए और समुद्री तट के मछुआरों के बीच दो वर्षों तक कार्य किया जिसमें उन्हें बड़ी सफलता मिली। सुसमाचार-प्रचार का उनका तरीका बड़ा आकर्षक था। हाथ में एक छोटी घंटी लिए वे हर मोहल्ले में जाते और वहाँ घंटी बजाने लगते। इस पर अनेको लोग विशेषकर, बच्चे और महिलाये जमा हो जाते थे। फ्रांसिस उन्हें निकट के गिरजाघर में ले जाते और बड़े प्रेम और धैर्य के साथ सुसमाचार सुनाते और ख्रीस्तीय विश्वास की बातें समझाते थे। इस प्रकार वे वहाँ की जनजाति के हज़ारों लोगों को ख्रीस्तीय विश्वास में ले आये। तत्पश्चात वहाँ से विदा होकर वे श्रीलंका गए और वहाँ सुसमाचार-घोषणा  किया। कुछ समय बाद वे मलाका गए। वहाँ एक जापानी व्यक्ति उनके मित्र बन गए और उस मित्र के साथ वे जापान गए। किन्तु वहाँ के बुद्ध सन्यासियों के विरोध के कारण उन्हें सफलता नहीं मिल सकी। तब वे पुर्तगाल के राजदूत के रूप में जापान के राजा से मिले। राजा ने उनका स्वागत किया  और उभे सुसमाचार प्रचार की अनुमति दे दी। प्रभु ने रोगियों की चंगाई और अन्य चमत्कारों द्वारा उनकी शिक्षा को प्रमाणित किया। इस प्रकार उन्हें अपने कार्य में काफी सफलता प्राप्त हुई और हज़ारों लोगों ने ख्रीस्तीय विश्वास को अपनाया। तत्पश्चात वे अपने मित्र के साथ गोआ लौट आये। गोआ के विश्वासीगण अपने प्रिय गुरु को वापस अपने बिच पाकर बहुत खुश हुए और उनसे निवेदन किया कि वे वहीं कुछ समय विश्राम करें।

किन्तु ख्रीस्त के प्रेम से प्रज्वलित फ्रांसिस को किसी प्रकार के विश्राम की चिंता नहीं थी। वे सुदूर चीन देश जाने के लिए तैयार हुए। कुछ ही दिनों बाद वे अपने कुछ साथियों को लेकर चीन के लिए रवाना हुए। किन्तु मार्ग में वे सख्त बीमार पड़ गए और हांगकांग से करीब दो सौ मील दूर सेंचियन द्वीप में 03 दिसम्बर 1552 को उनका देहान्त हो गया। वे केवल 46 वर्ष के थे। फ्रांसिस का जीवन एक जलती हुई मोमबत्ती के समान था जो ख्रीस्त की ज्योति को चारो ओर बिखेरता था। वह प्रकाश अचानक बुझ गया था। फ्रांसिस के साथियों ने बड़े दुःख के साथ उनके पार्थिव शरीर को उस द्वीप की रेत में दफना दिया। करीब दस सप्ताह बाद वह जहाज अपनी वापसी यात्रा में उस द्वीप के किनारे रुका। फ्रांसिस के साथी उनके अवशेष को गोवा ले जाना चाहते थे अतः उन्होंने कब्र की रेत हटाई। तब वे यह देखकर आश्चर्यचकित रह गए कि उनका शरीर बिलकुल ताज़ा था। किन्तु लम्बी यात्रा की परेशानियों को देखते हुए उन्हें फिर मलाका में दफनाया गया। एक वर्ष बाद गोवा के विश्वासियों के आग्रह पर मलाका में फिर उनकी कब्र खोली गयी। उस समय भी वह पावन शरीर बिलकुल ताज़ा था। उसे बड़े सम्मानपूर्वक गोआ लाया गया। वह आज भी गोआ की राजधानी पंजिम के महागिरजाघर में सुरक्षित रखा हुआ है। 
सन्त फ्रांसिस ने केवल दस वर्ष मिशनरी के रूप में कार्य किया, फिर भी उन्होंने करीब पचास राज्यों की यात्रा की और लाखों को ख्रीस्त के शिष्य बनाये और उन्हें अपने विश्वास में सुदृढ़ किया। सन 1622 में संत पिता ग्रेगरी 15 वें ने फ्रांसिस को संत घोषित किया और भारत एवं जापान के संरक्षक ठहराया। माता कलीसिया 03 दिसम्बर को सन्त फ्रांसिस ज़ेवियर का पर्व मनाती है।

Add new comment

16 + 4 =