हम अल्जाइमर पीड़ित लोगों के लिए प्रार्थना करें और उनकी मदद करें, पोप फ्राँसिस

21 सितंबर के विश्व अल्जाइमर दिवस को याद करते हुए, पोप फ्राँसिस ने बुधवारीय आम दर्शन समारोह के समापन पर अपने विचारों को इस बीमारी की ओर मोड़ा, जो इतने सारे लोगों को प्रभावित करती है और अक्सर अपनी बीमारी के कारण रोगी समाज के हाशिये पर धकेल दिए जाते हैं।
पोप ने कहा, “आज विश्व अल्जाइमर दिवस है, एक ऐसी बीमारी जो कई लोगों को प्रभावित करती है, जिन्हें अक्सर इस बीमारी के कारण समाज के हाशिये पर रखा जाता है। हम अल्जाइमर के रोगियों के लिए, उनके परिवारों के लिए, उनके लिए प्रार्थना करते हैं जो प्यार से उनकी देखभाल करते हैं ताकि उन्हें समर्थन और मदद मिल सके। मैं अपनी प्रार्थना में हेमोडायलिसिस, डायलिसिस और प्रत्यारोपण किये हुए पुरुषों और महिलाओं को सम्मिलित करता हूँ जो यहां उपस्थित हैं और अनेकों का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।”
विश्व अल्जाइमर दिवस 21 सितंबर को मनाया जाता है, जो विश्व अल्जाइमर महीना भी है। दुनिया भर के लोग जन जागरूकता बढ़ाने और बीमारी के साथ लगे कलंक को चुनौती देने के लिए अभियान चलाते हैं। इस दिवस का लक्ष्य जनता को बेहतर ढंग से सूचित करना, धारणाओं और दृष्टिकोणों को बदलना है और उन पीड़ितों एवं उनके परिवारों की मदद करने के लिए अधिक सहायता उत्पन्न करना है जो उनकी देखभाल के लिए संघर्ष कर रहे हैं।
2022 के अभियान प्रयास इस बात पर विशेष जोर दे रहे हैं कि अल्जाइमर के निदान के लिए लोगों और परिवारों को नवीनतम उपचार, उपलब्ध संसाधनों और सहायता के साथ कैसे समर्थन दिया जाए।
विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, दुनिया भर में 55 मिलियन से अधिक लोग दिमेंशिया से पीड़ित हैं। हर साल लगभग 10 मिलियन नए मामले सामने आते हैं। अल्जाइमर रोग सबसे आम प्रकार का दिमेंशिया है, अनुमानतः 60-70% मामले अल्जाइमर के होते है, जबकि सामान्य रूप से दिमेंशिया सभी बीमारियों में मृत्यु का सातवां प्रमुख कारण है।

Add new comment

6 + 4 =