यूक्रेनियों के साथ ईस्टर मनाने हेतु पोलैंड वासियो को पोप का आमंत्रण

पोप फ्राँसिस ने एक बार फिर पोलैंड वासियों के प्रति अपना आभार व्यक्त किया, जिन्होंने यूक्रेन से पलायन करने वाले लोगों के लिए अपने दरवाजे खोल दिए हैं। युद्ध ने उन्हें क्रूस पर एक साथ विचार करने के लिए आमंत्रित किया क्योंकि वे यूक्रेन में पुनरुत्थान और शांति की प्रतीक्षा कर रहे हैं।
साप्ताहिक आम दर्शन समारोह के लिए वाटिकन के पोप पॉल षष्टम सभागार में एकत्रित पोलिश तीर्थयात्रियों का अभिवादन करते हुए, संत पापा फ्राँसिस ने कहा कि पोलैड वासी ईस्टर मनाने की तैयारी कर रहे हैं और उनके पड़ोसी देश यूक्रेन में युद्ध जारी है।
पोप ने कहा, "इस साल आप पवित्र सप्ताह और ईस्टर कई यूक्रेनी मेहमानों के साथ एक विशेष तरीके से मनाएंगे।"
24 फरवरी को रूसी आक्रमण के बाद से पोलैंड ने 25 लाख से अधिक यूक्रेनी शरणार्थियों के लिए अपने दरवाजे खोल दिए हैं। 300,000 यूक्रेनियन, जिनमें से 100,000 बच्चे हैं, अकेले वारसॉ में शरण ली है। प्राधिकरण और नागरिक समाज संगठन न शरणार्थियों के लिए आवश्यक सहायता प्रदान करने में लगे हुए हैं और पहले से ही 15,000 यूक्रेनी शरणार्थी बच्चे पोलिश स्कूलों में नामांकित हैं।
पोप ने कहा, "ईस्टर एक पारिवारिक महोत्सव है और उनके लिए आपने अपना घर खोल दिया है। वे आपके परिवार के सदस्य बन गए हैं।"
पोप ने यह भी नोट किया कि कई यूक्रेनियन जो काथलिक पूर्वी संस्कारों से संबंधित हैं, पूर्वी परंपरा के अनुसार एक सप्ताह बाद ईस्टर मनाएंगे।
"आप सभी अब एक साथ क्रूस पर विचार कर रहे हैं, मसीह के पुनरुत्थान और यूक्रेन में शांति की प्रतीक्षा कर रहे हैं।"

Add new comment

9 + 4 =