युद्ध की मानसिकता को शांति की योजनाओं में बदलें, पोप 

वाशिंगटन, डीसी में आयोजित हिस्पैनिक प्रेरिताई पर अमेरिकी राष्ट्रीय काथलिक कांग्रेस को एक वीडियो संदेश में संत पापा फ्राँसिस ने प्रतिभागियों को ख्रीस्तीय होने की आवश्यकता पर विचार करने के लिए आमंत्रित किया जो समाज के सभी क्षेत्रों में सेतु बना सकते हैं। शीर्षक “जड़ें और पंख 2022” है, 26 से 30 अप्रैल तक "भविष्यवाणी की आवाज़ें: एक नए युग के लिए पुल बनना" विषय पर आयोजित किया गया है।
पोप ने कहा, "आपने एक अच्छा विषय चुना है।" पोप ने  प्रतिभागियों को युद्ध की मानसिकता को "शांति की मानसिकता और योजनाओं" में बदलने वाले अभिनेता बनने के लिए आमंत्रित किया।
उन्होंने कहा,“हम सभी युद्ध की मानसिकता के साथ सोचते हैं। यह अस्तित्ववादी और काइनवादी है। भाईचारा सभी के लिए है और यह उन मानसिकता में प्रकट होता है जो परिवारों, समुदायों, लोगों, राष्ट्रों और दुनिया के जीवन को बदल देती है। ”
पोप ने विश्वासियों को "ख्रीस्तीय होने की आवश्यकता पर विचार करने के लिए आमंत्रित किया जो संरचना को बदलते हैं और जो समाज के सभी क्षेत्रों में सेतुओं का निर्माण कर सकते हैं, विचारों को प्रकाशित कर सकते हैं, ताकि यह उन कार्यों को जन्म दे सके जो हमारे परिवारों और समुदायों से शुरू होकर सभी स्तरों पर शांति और एकता ला सकें।”
"मुझे शांति चाहिए, आपको शांति चाहिए, दुनिया को शांति चाहिए, शांति की सांस लेना स्वस्थ है। हमें शांति के ठोस संकेत चाहिए। मसीहियों को मिसाल कायम करनी चाहिए।”
पोप फ्राँसिस ने अपना प्रेरितिक आशीर्वाद देने से पहले अपने संदेश के अंत में कहा, "मैं आपको पुल बनने के लिए कहता हूं, पुल बनाने के लिए, प्रार्थना करने और शांति के लिए काम करने के लिए आग्रह करता हूँ और आप मेरे लिए भी प्रार्थना करना ना भूलें।"

Add new comment

7 + 2 =