पोप स्विस गार्डों से: वाटिकन सेवा भाईचारे एवं प्रशिक्षण का

पोप फ्राँसिस परमधर्मपीठीय स्विस गार्ड के अधिकारियों और सदस्यों को बधाई दी। उन्होंने परमाध्यक्ष की रक्षा करने हेतु शपथ लेने वाले सैनिकों को सेवा में समुदाय का निर्माण करने और अपने जीवन में ईश्वर के आह्वान की खोज करने के लिए प्रोत्साहित किया।
6 मई परमधर्मपीठीय स्विस गार्डों के जीवन में एक महत्वपूर्ण तारीख है, क्योंकि यह उस तारीख को चिह्नित करता है जब 1527 में रोम में छिड़े संघर्ष के दौरान पोप क्लेमेंट सातवें की रक्षा करते हुए उनके पूर्ववर्तियों में से 147 मारे गए थे। हर साल इस दिन, नए स्विस गार्ड निष्ठा की शपथ लेते हैं और आधिकारिक तौर पर पोप की सेवा में अपनी सेवा शुरू करते हैं।
वाटिकन के संत दामासियुस प्रांगण में 6 मई की शाम को परमधर्मपीठीय स्विस गार्डों का शपथ ग्रहण समारोह होगा। इससे पहले संत क्लेमेंटीन सभागार में पोप ने शपथ ग्रहण किये नये स्विस गार्डों, उनके माता पिता एवं परिवार के सदस्यों और स्विस गार्ड के अधिकारियों से मुलाकात की। पोप ने उनसे मिलने की खुशी जाहिर करते हुए कहा कि यह वार्षिक समारोह उनके माता-पिता और परिवार के सदस्यों से मिलने और उनका स्वागत करने का एक शानदार अवसर है जो इस महत्वपूर्ण समय में उनके साथ हैं।
पोप ने नये स्विसगार्डों से कहा कि वे जिन स्थानों पर अपनी सेवा देने के लिए बुलाये गये हैं, वे एक ऐसे इतिहास से भरे हुए हैं, जो परमधर्मपीठ के कई सेवकों के वीरतापूर्ण आत्म-निषेध द्वारा चिह्नित है, जिनमें कुछ स्विस भी शामिल हैं। स्विस गार्ड की स्थापना के बाद से, कई युवाओं ने इसे सौंपे गए अद्वितीय कार्य को पूरा किया है, जो आज भी जारी है। एक उदार और वफादार प्रतिबद्धता के माध्यम से, सदियों से कुछ लोग सबसे कठिन परीक्षणों से नहीं बच पाए हैं, यहां तक ​​कि परमाध्यक्ष की रक्षा के लिए अपना खून बहाया है आज भी वे अपने सर्वोच्च समर्पण के साथ उन्होंने पोप और उनके निवास की सुरक्षा में अपने को समर्पित किया है।
पोप ने कहा, “आपने अपने आप को एक उत्कृष्ट कलीसियाई कार्य के लिए समर्पित करना चुना है, मैं आपसे इसे एक ख्रीस्तीय और सामुदायिक गवाह के रूप में जीने का आग्रह करता हूं। आपकी गतिविधि, वास्तव में, व्यक्तिगत रूप से नहीं, बल्कि एक समुदाय के रूप में की जाती है: इसलिए आपको स्विस गार्ड का "कोर" कहा जाता है। आप इस सामुदायिक आयाम को हर दिन महसूस करें।
पोप ने नए स्विस गार्डों को प्रशिक्षण के लिए समय समर्पित करने और ख्रीस्तीय के रूप में खुद को विकसित के अवसर का लाभ उठाने लिए भी आमंत्रित किया।
पोप ने कहा, "रोम में आपके प्रवास को ख्रीस्तीय के रूप में विकसित होने के लिए महत्व दिया जाना चाहिए। मैं आध्यात्मिक जीवन के बारे में सोच रहा हूं, जो हमें हम में से प्रत्येक के लिए ईश्वर की योजना की खोज करने में सक्षम बनाता है।"
साथ ही, पोप ने उन्हें "ईमानदारी और भाईचारे के संवाद" की भावना से, अपने सहयोगी गार्डों के साथ स्वस्थ मित्रता विकसित करने के लिए प्रेरित किया।
पोप ने एक पल के लिए एक युवा गार्ड को याद किया, जिसकी हाल ही में मृत्यु हो गई।
उन्होंने कहा, "मैं दर्द और उदासी के साथ एक पल के लिए रुकना चाहूंगा और मैं चाहता हूं कि आपके सहयोगी सिल्वान वुल्फ यहां मौजूद हों। दुर्भाग्य से, एक अच्छे और हर्षित युवक को एक दुर्घटना ने उसे हमसे दूर कर दिया। आइए, कुछ देर मौन रहकर, हम सिल्वन को याद करें और उसके लिए प्रार्थना करें।
अपने संदेश को समाप्त करते हुए पोप फ्राँसिस ने स्विस गार्डों के "समय पाबंदी और बहुमूल्य सहयोग" के लिए उनकी प्रशंसा की जिसे वे हर दिन देखते हैं।
उन्होंने कहा, "परमधर्मपीठ आप पर निर्भर करता है!" "वाटिकन सिटी को अपने क्षेत्र में आपकी उपस्थिति पर गर्व है!" संत पापा ने उन्हें माता मरियम और अपने संरक्षक संतों मार्टिन और सेबस्टियन की मध्यस्ता में समर्पित किया।

Add new comment

1 + 3 =