पोप फ्रांसिस ने म्यांमार में शांति हेतु प्रार्थना की अपील की। 

विश्वासियों को मरियम का महीना, मई एवं "मैराथन प्रार्थना" पहल की याद दिलाते पोप फ्रांसिस ने सभी विश्वासियों से म्यांमार में शांति एवं मेल-मिलाप के लिए प्रार्थना करने का आह्वान किया।
पोप फ्रांसिस ने कहा, "हम मई महीने में प्रवेश कर चुके हैं, जिसमें लोकप्रिय धार्मिकता कई तरीकों से कुँवारी मरियम के प्रति भक्ति व्यक्त करती है। इस साल इसे खास मरियम तीर्थस्थलों में महामारी के अंत के लिए प्रार्थना करते हुए "मैराथन" प्रार्थना के द्वारा की जीयेगी। पिछली शाम को संत पेत्रुस महागिरजाघर में इसका पहला पड़ाव सम्पन्न हुआ।"
इस संदर्भ में, वर्मा की कलीसिया में एक पहल है जो मेरे हृदय के अत्यन्त करीब है। यह रोजरी के एक प्रणाम मरिया को म्यांमार के लिए, शांति हेतु प्रार्थना करने का निमंत्रण है। हम प्रत्येक हमारी माता की ओर लौटते हैं जब कभी हम जरूरत में अथवा कठिनाई में होते हैं। हम, इस माह, हमारी स्वर्गीय माता से अर्जी करते हैं कि वह म्यांमार के अधिकारिरयों के हृदय को प्रेरित करे, ताकि वे मुलाकात, मेल-मिलाप एवं शांति के रास्ते पर चलने का साहस पा सकें।"
उन्होंने वेनेजुएला में जोश ग्रेगोरियो हर्नांडेज चिसनेरोस की धन्य घोषणा की याद की। उन्होंने कहा, "पिछले शुक्रवार को वेनेजुएला के काराकास में विश्वासी लोकधर्मी जोश ग्रेगोरियो हर्नांडेज चिसनेरोस की धन्य घोषणा की गई। वे एक चिकित्सक थे, विज्ञान एवं विश्वास के धनी। वे रोगियों में ख्रीस्त के चेहरे को पहचानना जानते थे। और उन्होंने एक भले समारितानी की तरह, सुसमाचारी प्रेम से प्रेरित होकर मदद दी। उनका उदाहरण हमें उन लोगों की सेवा करने में मदद दे जो शारीरिक एवं आध्यात्मिक रूप से पीड़ित हैं। पोप फ्रांसिस ने ताली बजाकर उन्हें सम्मानित किया।"  
ऑर्थोडॉक्स कलीसिया एवं पूर्वी काथलिक कलीसियाओं को पास्का की शुभकामनाएँ
पोप फ्रांसिस ने ऑर्थोडॉक्स कलीसिया एवं पूर्वी काथलिक कलीसियाओं को पास्का की शुभकामनाएँ दीं जो जुलियन कैंलेंडर के अनुसार आज पास्का महापर्व मना रहे हैं। उन्होंने कहा, "पुनर्जीवित प्रभु उन समुदायों को प्रकाश एवं शांति तथा सांत्वना से भर दे, जो कठिन परिस्थिति से गुजर रहे हैं। उन्हें मंगलमय पास्का।"
पोप फ्रांसिस ने इस्राएल में हुई दुर्घटना के लिए दुःख प्रकट करते हुए कहा, "मैं इस्राएल के लोगों के प्रति अपना आध्यात्मिक सामीप्य व्यक्त करता हूँ जहाँ पिछले शुक्रवार को मेरोन पर्वत पर एक दुर्घटना हुई जिसमें 45 लोगों की मौत हो गई एवं अनेक लोग घायल हो गये। मैं इस त्रासदी के शिकार एवं उनके परिवारवालों के लिए अपनी प्रार्थना का आश्वासन देता हूँ।"
पोप फ्रांसिस ने मातेर एसोसियेशन की याद करते हुए प्रोत्साहन दिया कि वे उन बच्चों के प्रति अपने समर्पण को जारी रखें जो हिंसा एवं शोषण के शिकार हैं।
तत्पश्चात् उन्होंने रोम विश्वासियों तथा विभिन्न देशों के तीर्थयात्रियों का अभिवादन किया, खासकर, उन्होंने एकता के लिए राजनीतिक आंदोलन के सदस्यों का अभिवादन किया, जिसकी स्थापना कियारा लुबिक ने 25 वर्षों पहले की है। पोप फ्रांसिस ने अच्छी राजनीति की सेवा के इस भले कार्य के लिए शुभकामनाएँ दीं।  
अंत में, पोप फ्रांसिस ने अपने लिए प्रार्थना का आग्रह करते हुए सभी को शुभ रविवार की मंगलकामनाएँ अर्पित की।

Add new comment

8 + 1 =