पोप फ्राँसिस ˸ खेल के मूल्यों से युद्ध रोकने में मदद मिल सकती है

पोप फ्राँसिस ने रोमन रोइंग क्लब के सदस्यों से कहा कि सच्चा खेल मानवीय मित्रता स्थापित कर सकता है एवं युद्ध रोकने के लिए महत्वपूर्ण अषधि के रूप में कार्य कर सकता है। पोप फ्रांसिस ने तेभेरे रेमो नाव खेनेवाले क्लब की स्थापना की 150वीं वर्षगाँठ पर क्लब के 100 सदस्यों से वाटिकन के क्लेमेंटीन सभागार में मुलाकात की।
पोप ने सदस्यों को सम्बोधित कर कहा कि यह वर्षगाँठ, समाज में खासकर, रोम और लात्सियो में आपकी उपस्थिति के अर्थ एवं तरीके पर चिंतन करने का अवसर है। आप एक ऐसे खेल के प्रतिनिधि हैं, जिसके सदस्य कई विषयों में प्रतिस्पर्धा करते, और यह आंदोलन, प्रस्थान करने को उजागर करता है। यह हर उम्र के लोगों के लिए महत्वपूर्ण है किन्तु युवाओं के लिए विशेष महत्व रखता है कि वे जीवन की कठिनाइयों के सामने न रूकें बल्कि दृढ़ता और ईश्वर पर भरोसा तथा दूसरों की मदद से कठिनाइयों से ऊपर उठें।
पोप ने कहा, "खेल के द्वारा आप स्वस्थ प्रतिस्प्रधा, मित्रता एवं एकजुटता के मूल्यों को बढ़ावा देने के लिए बुलाये गये हैं। यह खेल की संस्कृति को बढ़ावा देना है जो न केवल शरीरिक हित के लिए आवश्यक है बल्कि एक साहसी विचारधारा के रूप में, व्यक्ति के समग्र विकास का साधन हो सकता है।
पोप ने कहा, "वर्षों से, आपने अपने क्लब को मानव प्रशिक्षण के लिए एक प्रशिक्षण मैदान के रूप में प्रस्तावित करने का प्रयास किया है। मैं आप सभी को प्रोत्साहन देता हूँ कि आप इसे बनाये रखें ताकि बच्चे, युवा और वयस्क, विभिन्न खेल अनुशासनों द्वारा आवश्यक मूल्यों ˸ न्याय और सच्चाई के प्रति प्रेम, सृष्टि के प्रति सम्मान, अच्छाई एवं सुन्दरता के प्रति रूचि, स्वतंत्रता एवं शांति की खोज आदि में बढ़ सकें।"
पोप ने खेल जगत की चुनौतियों की याद करते हुए कहा कि कभी-कभी खेल जगत लाभ के तर्क एवं उत्तेजित प्रतियोगिता के कारण पीड़ित होता है जिससे हिंसक घटनाएँ भी हो जाती हैं। अतः उनका कर्तव्य है कि वे खेल संबंधी क्रिया–कलापों में नैतिक शक्ति को बढ़ावा दें। जो अच्छी मित्रता स्थापित करने तथा अधिक शांत एवं भाईचारापूर्ण विश्व के निर्माण में मदद देगा।
पोप ने खिलाड़ियों को प्रोत्साहन दिया कि वे निष्ठापूर्ण आचरण एवं स्वस्थ प्रतियोगिता की भावना से खेलों में भाग लें। इस तरह यह उन्हें जीवन की दौड़ की मांगों को साहस एवं ईमानदारीपूर्वक, भविष्य में आनन्द एवं विश्वास की शांति के साथ पूरा करने में मदद देगा, तथा उन लोगों का इंतजार करने में सहायक होगा जो धीरे चलते या चलने में कठिनाई महसूस करते हैं।
अंत में, पोप ने तेभेरे रेमो रोइंग क्लब को रोम की संरक्षिका को समर्पित किया तथा उन्हें अपना प्रेरितिक आशीर्वाद प्रदान किया।

Add new comment

1 + 1 =