पोप द्वारा संकट से जूझते सोमालिया पर ध्यान देने का आह्वान

देवदूत प्रार्थना का पाठ करने के उपरांत पोप ने सोमालिया और पड़ोसी देशों को याद किया जो अभूतपूर्व सूखे के कारण भी गंभीर मानवीय संकट से जूझ रहे हैं।
रविवार को संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्रांगण में उपस्थित विश्वासियों और तीर्थयात्रियों के साथ देवदूत प्रार्थना का पाठ करने के बाद, संत पापा फ्राँसिस ने "सोमालिया और पड़ोसी देशों के कुछ हिस्सों को प्रभावित करने वाले गंभीर मानवीय संकट" की ओर उनका ध्यान आकर्षित कराया।
पोप ने जोर देकर कहा कि "इस क्षेत्र की आबादी, जो पहले से ही बहुत ही अनिश्चित परिस्थितियों में रह रही है, अब सूखे से गंभीर खतरे में है।"
उन्होंने कहा, “मुझे उम्मीद है कि अंतरराष्ट्रीय एकजुटता इस आपातकाल का प्रभावी ढंग से जवाब दे सकेगी। दुर्भाग्य से, युद्ध ध्यान और संसाधनों को हटा देता है, लेकिन भूख, स्वास्थ्य, शिक्षा के खिलाफ लड़ाई, ये वे उद्देश्य हैं जो सबसे बड़ी प्रतिबद्धता की मांग करते हैं।”
सहायता एजेंसियों ने भी खतरे की घंटी बजा दिया है, खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) ने कहा है कि यदि फसल की विफलता और कम पशुधन उत्पादन जारी रहता है, तो सोमालिया के आठ क्षेत्रों में सितंबर तक अकाल पड़ सकता है। 
संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी यूएनएचसीआर और नॉर्वेजियन रिफ्यूजी काउंसिल (एनआरसी) के अनुसार, इस साल भीषण सूखे के कारण सोमालिया में 755,000 से अधिक लोग आंतरिक रूप से विस्थापित हुए हैं, जनवरी 2021 से सूखा शुरू होने के बाद से कुल आंकड़ा 1 मिलियन लोगों तक पहुंच गया है।
सोमालिया में एनआरसी के डायरेक्टर मोहम्मद आब्दी ने कहा, "यह 1 मिलियन मील का पत्थर सोमालिया के लिए एक बड़े खतरे की घंटी के रूप में कार्य करता है।" “भूख अब पूरे देश को सता रही है। हम देख रहे हैं कि अधिक से अधिक परिवार सब कुछ पीछे छोड़ने को मजबूर हैं क्योंकि उनके गांवों में सचमुच पानी या भोजन नहीं बचा है। इससे पहले कि बहुत देर हो जाए, सहायता राशि में तत्काल वृद्धि करने की आवश्यकता है।”
देवदूत प्रार्थना के बाद पोप ने पोलैंड के क्राकोव में दिव्य करुणा तीर्थालय में एकत्रित कई तीर्थयात्रियों को भी विशेष रुप से याद किया, जहां बीस साल पहले संत जॉन पॉल द्वितीय ने दुनिया को दिव्य करुणा को समर्पित किया था।
उन्होंने कहा, "पहले से कहीं अधिक, आज हम उस भाव का अर्थ देखते हैं, जिसे हम प्रार्थना में और अपने जीवन की गवाही में नवीनीकृत करना चाहते हैं। करुणा हम में से प्रत्येक के लिए और पूरी दुनिया के लिए मुक्ति का मार्ग है और हम ईश्वर से यूक्रेन के पीड़ित लोगों के लिए विशेष दया, करुणा और सहानुभूति मांगते हैं,"

Add new comment

5 + 13 =