विकास हेतु खुद को व्यक्त करने की स्वतंत्रता आवश्यक, संत पापा

संगठन स्कोल्स ऑकुरेंतेस के नए मुख्यालय के उद्घाटन

संत पापा फ्राँसिस ने शुक्रवार को वाटिकन में स्थित दुनिया भर के 190 देशों से शिक्षा में शामिल एक अनौपचारिक संगठन स्कोल्स ऑकुरेंतेस के नए मुख्यालय का उद्घाटन किया। दक्षिण अमेरिकी पांच "प्रथम महिलाएं" भी इस कार्यक्रम के लिए उपस्थित थीं।

रोम में स्कोल्स ऑकुरेंतेस संगठन के नए परिसर में दुनिया भर के स्कोलस स्कोल्स ऑकुरेंतेस के प्रतिनिधियों ने संत पापा फ्राँसिस का स्वागत किया। जापान, अर्जेंटीना, संयुक्त राज्य अमेरिका, हैती, इजरायल, मोजाम्बिक, मैक्सिको, स्पेन और इटली के युवा सदस्य व्यक्तिगत रूप से और वीडियो लिंक के माध्यम से भी वहाँ मौजूद थे।

संत पापा ने नए केंद्र के दरवाजे खोले और और जैसे प्रवेश किया, प्रतिनिधियों ने गीत गाते हुए 50वीं पुरोहिताभिषेक की शुभकामनाएँ दी।  

स्कोल्स ऑकुरेंतेस : स्वतंत्रता का निर्माण

संगठन की नई केंद्र के उद्घाटन ने संस्थान के अगले वर्ष के कार्यक्रमों के शुभारंभ के लिए एक अवसर प्रदान किया, जो 190 देशों में शिक्षा और प्रशिक्षण में शामिल है। यह दुनिया भर में 500,000 से अधिक संस्थानों को एक साथ लाता है।

इस दिन के कार्यक्रम में भाग लेने वालों में पेशेवर एथलीट, कलाकार और व्यवसायी लोग, साथ ही दक्षिण अमेरिका के "अल्मा एसोसिएशन" के 5 "प्रथम महिलाओं" का एक प्रतिनिधिमंडल भी था।

बच्चों के साथ काम करने वाले कई स्कोल्स ऑकुरेंतेस के सदस्यों की गवाही सुनने के बाद, सं पापा फ्राँसिस अपने स्वयं के विचारों को प्रकट किया। उनहोंने कहा, "स्कोल्स ऑकुरेंतेस किसी का धर्मपरिवर्तन नहीं करती परंतु स्वतंत्रता देती है कि जो प्रत्येक व्यक्ति के दिल में है उसे विकसित करने और अपना भविष्य बनाने में सक्षम बनाती है।

कविता और कला

संत पापा फ्राँसिस ने स्कोल्स ऑकुरेंते की प्रशंसा की जो युवाओं को अपने अंदर की कला को प्रकट करने और दूसरों के सामने प्रकट करने की क्षमता को विकसित करने में मदद करते हैं। उन्होंने कहा कि अपने अंदर के भावों को कविता के माध्यम से व्यक्ति किया जा सकता है। कविता का अर्थ "ऊंची उड़ान भरने वाली चीजों में खुद को अलग करना" नहीं है, बल्कि "यह रचनात्मकता है"। मानव "या तो रचनात्मक हैं, या वह बच्चा बना रहता है, वह नहीं बढ़ता।

स्कोलास ऑकुरेंते अगले साल, 14 मई के लिए निर्धारित “वैश्विक शैक्षिक संधि का पुनर्निर्माण” थीम पर आधारित एक विश्वव्यापी आयोजन सहित कई पहलें करेगा, जिसका उद्देश्य बच्चों के लिए एक अधिक खुली और समावेशी शिक्षा के लिए पीढ़ियों के बीच बातचीत को फिर से शुरू करना है।

Add new comment

12 + 4 =