मई ˸ विश्वास से भरे युवक-युवतियों के लिए

पोप फ्राँसिस ने मई महीने की प्रार्थना की प्रेरिताई में युवक-युवतियों के लिए प्रार्थना करने का आह्वान किया है। "परिवार पर बातचीत करते हुए, मैं अपने सम्बोधन को सबसे पहले युवाओं से शुरू करुँगा।
जब मैं एक मॉडल के बारे सोचता हूँ जिन्हें युवा अपना आदर्श मानते हैं, हमारी माता मरियम हमेशा याद आती हैं ˸ उनका साहस, किस तरह वे सुनना जानती थीं और सेवा के लिए उनका समर्पण। वे साहसी थीं और प्रभु को "हाँ" कहने के लिए कृतसंकल्प थीं।  
आप युवा जो कुछ नया, एक बेहतर दुनिया का निर्माण करना चाहते हैं, उनके आदर्शों पर चलें, जोखिम उठायें। यह न भूलें कि मरियम का अनुकरण करने के लिए आपको आत्मपरख करना है और देखना है कि येसु आपसे क्या चाहते हैं, वह नहीं जिसको आप सोचते हैं कि कर सकते हैं। और इस आत्मपरख में, दादा-दादियों के शब्दों को सुनना बड़ी मदद हो सकती है। दादा-दादियों के शब्दों में, आपको एक ऐसी प्रज्ञा मिलेगा जो आपको इस समय के मुद्दों से परे ले जाएगी। वे आपकी चिंता को एक अवलोकन प्रदान करेंगे।
प्यारे भाइयो एवं बहनो, आइये हम प्रार्थना करें, ताकि सभी युवा, जो जीवन को पूर्ण रूप से जीने के लिए बुलाये गये हैं, कुँवारी मरियम के जीवन से सुनना, आत्मपरख करने की गहराई, विश्वास का साहस और सेवा के लिए समर्पण सीख सकें।"

Add new comment

10 + 8 =