पोप फ्रांसिस ने युवाओं से येसु की शैली को अपनाने को कहा 

पोप फ्रांसिस ने इटालियन काथलिक एक्शन संघ के युवाओं से मुलाकात की और कहा कि वे अपनी विशिष्टता को अपनाएं, जैसे येसु उन्हें उनकी मौलिकता में गले लगाते हैं।
पोप फ्रांसिस ने शनिवार 18 दिसम्बर को वाटिकन के संत क्लेमेंटीन सभागार में इटालियन काथलिक एक्शन संघ के युवाओं से मुलाकात की। पोप फ्रांसिस ने वहाँ उपस्थित संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष, सहायक जनरल, राष्ट्रीय नेताओं और शिक्षकों के साथ सभी युवाओं का सहृदय अभिवादन करते हुए कहा, “मुझे इस क्रिसमस के मौसम में आपसे मिलकर हमेशा खुशी होती है। आपके इटालियन काथलिक एक्शन के माध्यम से उन बहुत से लोगों को धन्यवाद देता हूँ जो उदारतापूर्वक आपके धार्मिक प्रशिक्षण के लिए प्रतिबद्ध हैं, संघ को अपना समय और संसाधन समर्पित करते हैं।”
इस साल आपके विश्वास में वृद्धि की यात्रा सिलाई से प्रेरित नारे “खास आपके लिए तैयार" द्वारा व्यक्त की गई है। मुझे यह विषय पसंद है, जो आपको विभिन्न लोगों के लिए उपयुक्त सहायक उपकरण के साथ, दर्जी के कपड़े के बारे में सोचने पर मजबूर करता है। यह सुंदर है क्योंकि हम में से प्रत्येक अद्वितीय है। हम फोटोकॉपी नहीं हैं! यह महत्वपूर्ण है कि हर कोई अपनी मौलिकता की "पोशाक" को हर दिन खुशी के साथ पहने। इतिहास में आप जैसा न कोई था और न कोई कभी होगा। आप में से प्रत्येक अद्वितीय हैं और आपमें अपरिवर्तनीय सुंदरता है।
पोप फ्रांसिस ने कहा कि भले ही दूसरे आप में कमी या आपको महत्व न दें, परंतु येसु आपको वैसे ही प्यार करते हैं जैसे आप हैं। येसु, जो एक बच्चे के रूप में दुनिया में आए, बच्चों के लिए उपयुक्त दुनिया में विश्वास करते हैं। उन्होंने बेतलेहेम में जन्म लेकर हमें इस बात को समझाया। आज भी वे हर देश के बच्चों और हर व्यक्ति के करीब हैं। यह ईश्वर की शैली है, जिसे तीन शब्दों में वर्णित किया गया है: निकटता, करुणा और कोमलता।
येसु जो खुद को हमारा पड़ोसी बनाते है, हमें भी खुद को "पड़ोसी" बनाना सिखाते हैं। हमें परिवार के सदस्यों, दोस्तों, साथियों, जरूरतमंदों के लिए पड़ोसी बनना है। हम जिस परिवेश में रहते हैं परिवार, स्कूल, पल्ली, खेल और मनोरंजन के स्थानों में हम दूसरों की मदद करने के लिए सदा तैयार रहें। येसु के प्रेम का साक्ष्य दें। येसु की शैली को अपनाने के लिए सबसे पहले, हमें उसके करीब आना होगा, उसके लिए अपने दिल में जगह बनाना होगा। प्रभु के साथ प्रार्थना में समय बितायें, उससे अपने दोस्तों के बारे में बतायें, उससे कठिनाइयों में ताकत मांगें और उनसे अपनी खुशी, अपना दुःख, अपना डर सब कुछ साझा करें।
पोप फ्रांसिस ने कहा कि येसु ही हमें पूर्ण आनंद देते हैं, क्योंकि केवल वे ही जीवन को रोमांचक और हमेशा नया बनाने में सक्षम हैं। वे आपको कभी नहीं भूलते, वे आपको प्रोत्साहित करने के लिए हमेशा तैयार हैं और आप पर हमेशा विश्वास करते हैं। हर बार जब आप उनसे मिलने जाते हैं तो वे आपको ऊर्जा और साहस देते हैं और आपको देखकर वे खुश होते हैं। विशेष रूप से, जब आप उन लोगों के करीब होते हैं जो दोस्तों के बिना अकेले हैं, कठिनाई में हैं, जो पीड़ित हैं! येसु आप पर भरोसा करते हैं!
अंत में पोप फ्रांसिस ने युवाओं और उनके परिवार के सदस्यों को क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनाएँ दी। उन्हें आशीर्वाद दिया, साथ ही अपने लिए भी प्रार्थना करने को कहा।  

Add new comment

2 + 14 =