टीनएजर्स का ज़रूरी है मागदर्शन 

आज के समय में टीनएजर्स को संरक्षण और दिशा दिखाए जाने की बेहद जरूरत है। यह जिम्मेदारी समाज के बुजुर्ग और समझदार लोगों की है। उन्हें चाहिए कि सोशल मीडिया और आधुनिकता के जाल में किशारों को गुम होने से बचाएं। किशोरों को बताएं कि वे अपने घर- परिवार, दोस्तों रिश्तेदारों को भी समय दें और सामाजिक जुड़ाव बनाए रखें। बुजुर्गों के दिखाए रास्ते से किशोर भटकने से बच सकते हैं और सही राह पर चल सकते हैं। यह बुजुर्गों की खास और महत्त्वपूर्ण जिम्मेदारी है। किशोर अवस्था एक ऐसा पड़ाव होता है जिसमें किशोरों के भटकने का डर रहता है। वे गलत संगत और गलत लत के शिकार हो जाते हैं। ऐसे में अगर इनको बड़ों का संरक्षण और गाइडेंस मिलती है तो वे खुद का कॅरियर बर्बाद होने से बचा कर अपनी जिंदगी को संवार सकते हैं। किशोरों के मामले में बड़ों को अधिक गंभीर होने और अधिक सजगता दिखाए जाने की सख्त जरूरत है।

Add new comment

12 + 1 =