प्यार की वीरगाथा

पिता और बेटी
पिता और बेटी

प्यार क्या होता है? अगर ये सवाल हमसे पूछा जाए तो हर कोई अपने अपने हिसाब से प्यार की परिभाषा दे देगा। क्योंकि हर कोई प्यार के भाव से भली-भांति वाकिफ है। सोशल मीडिया पर आजकल एक खबर बहुत सुर्खियां बटोर रही है कि एक 15 साल की लड़की ज्योति ने लॉकडाउन में गुरुग्राम से बिहार दरभंगा लगभग 1200 किमी की दूरी अपने पिता को सायकिल पर बैठाकर लगभग 10 दिन में तय की। डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ने ट्वीट कर ज्योति के हौसले की तारीफ की। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की बेटी इवांका ट्रम्प ने ट्वीट कर कहा कि 15 साल की ज्योति अपने घायल पिता को साइकिल से लगभग 1,200 किमी दूरी तय करके अपने गांव ले गई। साथ ही उन्होंने ज्योति के हौसले की सराहना की।
लॉकडाउन के चलते लाखों प्रवासी मजदूर अपने घरों से दूर शहरों में फसे हुए है। लॉकडाउन के चलते तो ना उनके पास काम है और ना खाने के लिए भोजन। इसलिए वे शहरों से अपने गावों का रुख कर रहे है।
ज्योति की कहानी भी कुछ इसी तरह की ही है। ज्योति के पिता अपने परिवार का पेट पालने के लिए गुरुग्राम में ऑटो चलाते है। जब उनके पिता जख्मी हो गए तो वो अपने पिता की सेवा करने अपनी माँ के साथ गुरुग्राम चली गयी थी। माँ के वापस गाँव लौटने के बाद भी वह अपने पिता की सेवा के लिए वही गुरुग्राम में रुकी रही। और इसी बीच लॉकडाउन भी लग गया और वे लोग वही फंस गए। कुछ ही दिनों में उनकी जमापूंजी भी खत्म हो गयी तो ज्योति ने घर जाने की ठानी। ज्योति के कहने पर पिता ने 500 रुपये में एक पुरानी सायकिल खरीदी और ज्योति अपने जख्मी पिता को सायकिल पर बैठाकर गुरुग्राम से घर के लिए निकल पड़ी। लगभग 8 दिन की यात्रा के बाद जब वे अपने घर दरभंगा पहुंचे तो सब हैरान थे। बेटी के संघर्ष की यह कहानी सभी को अपनी ओर आकर्षित कर रही है। तभी ज्योति के संघर्ष से प्रेरित होकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की बेटी इवांका ट्रम्प ने ट्वीट कर ज्योति की सराहना की।

Add new comment

2 + 0 =