आत्मविश्वास बढ़ाने के 5 आसन तरीके

दोस्तों, सफलता प्राप्त करने के लिए Self Confidence की बहुत ज्यादा जरूरत होती है | इस पोस्ट में हम ऐसे 5 आसान तरीके के बारे में बात करेंगे जो आपका आत्मविश्वास बढाने के लिए कारगर साबित होंगे ...

आगे की बेंच पर बैठे और सामने नजर आये | जब मैं स्कूल में था तो मैंने एक चीज गौर की थी ... ज्यादातर स्टूडेंट्स, पीछे के बेंच से बैठते हुए आगे तक जाते थे | मतलब बेंच के भरने का सिलसिला पीछे से शुरू होता था और ज्यादातर स्टूडेंट्स पीछे की लाइन में ही इसलिए बैठते थे ताकि “वह शिक्षक की नजरों से बच सके या शिक्षक के नजरों में न आ सके” |

ऐसा नही है कि स्कूल में ही इस टाइप के बेंच भरने का तरीका देखने को मिलता है | गौर से आप देखें तो ऐसा सिस्टम आज स्कूल, कॉलेज, बिज़नस मीटिंग, group डिस्कशन, etc | ऐसी बहुत सारी जगहों पर देखने को मिलती हैं  और वो सभी लोगों कि नजरों में इसलिए नही आना चाहते क्योकि कही न कही उनके अंदर आत्मविश्वास कि बहुत कमी है |

क्या करें जिससे आत्मविश्वास बढ़े ? 

हमेशा आगे की बेंच पे बैठने का प्रयास कीजिए | आगे बैठने के लिए आपको कुछ दिन इसकी practice करनी होगी | आगे बैठने के लिए आप अपने टीचर, बॉस, प्रोफेसर इनकी नजरों में थोडा रहते हैं लेकिन हमेशा यह याद रखिये कि सफलता के लिए लोगों की नजरों में रहना बहुत ही ज्यादा जरूरी हैं | आप जब भी पीछे की बेंच पर बैठेंगे, आपका डर रेगुलर बढ़ता जायेगा और आपका आत्मविश्वास हमेशा कमजोर पढ़ता जायेगा | यदि आपको अपने अंदर के डर को ख़तम करना है तो उस डर से लड़ना सीखना पड़ेगा इसलिए आगे की बेंच पर बैठने का प्रयास करिये, यही वो जरिया है जिससे आप अपने अंदर आत्मविश्वास विकसित कर सकेंगे |

नजरें मिलाकर बात करने का अभ्यास करें -  

किसी भी व्यक्ति की बॉडी लैंग्वेज से उसके व्यवहार का पता चल जाता है | बॉडी लैंग्वेज में आँखों का प्रयोग आपके आत्मविश्वास बढ़ाने मे काफी कारगर साबित हो सकता हैं | कोई व्यक्ति आँखों का किस पतरह से प्रयोग करता है इसे जानकर हमें भी काफी ज्यादा जानकारी मिल सकती हैं | अगर कोई व्यक्ति आपसे बात करते हुए आपकी तरफ नगर नही करता है, आँखे मिलाकर बात नही करता है तो आप यह जान सकते हैं कि उसके अंदर आत्मविश्वास की बहुत कमी है |

आँखे मिलाकर बात करने से कुछ तथ्य हमारे सामने आ सकते है -  

  • क्या यह व्यक्ति डरा हुआ है, और डरा हुआ है तो किस बात से डरा हुआ हैं ?
  • कहीं यह मुझे धोखा तो नही देगा, इस वजह से मुझसे नजरें मिलाकर बात नही कर रहा ?
  • ये आखिर मुझसे क्या और कौन-सी बाते छिपाने की कोशिश कर रहा है ?
  • आखिर इसके इरादे क्या है ?
  • क्या मैं इस पर विश्वास कर सकता हूँ ?

ज्यादातर Eye Contact से जो लोग झिझकते हैं उनसे दो बातो का पता चलता है –

  1. मैं आपसे डरा फील करता हूँ ... मैं आपके सामने आते ही खुद को अनकम्फ़र्टेबल महसूस करता हूँ ... ये भी हो सकता है कि मैं आपसे हीन अनुभव करूँ |
  2. सामने वाले से आँखें न मिलाकर बात करने से इस बात का खुलासा भी हो सकता है कि

आप अपराध से ग्रस्त हैं ...आपने कुछ ऐसा कर दिया जिसे आप बताने से डर रहे हैं और आपको लगता है कि सामने वाला आपकी सच्चाई जान लेगा तो यूज़ बहुत दुःख होगा ... यदि मैंने आपसे नजर मिलाकर बात की तो आप मेरे दिल को समझ जायेगे और मेरे बारे में बहुत कुछ जान जायेगे |

नजरें मिलाकर बात न करने से आप कभी भी खुद की इमेज सामने वाले के सामने अच्छी नही कर सकते हैं | नजरें दूसरी ओर करने से आप सामने वाले तक यह सन्देश भेजते हैं कि आप डरे हुए हैं, आपके अंदर आत्मविश्वास की बहुत ही ज्यादा कमी हैं |

इसलिए यदि आपको अपने अंदर के डर को मारना है तो नजरें मिलाकर सबसे बात करना होगा इससे आपके आत्मविश्वास में गजब का बदलाव आएगा |

अपनी आँखों में आत्मविश्वास को झलकने दीजिए, आपकी आँखें बिना बोले बहुत कुछ कह जाती हैं इसलिए आँखों में डर को कभी न आने दे और ये सिर्फ तभी होगा जब आप नजरे मिलाकर बात करेंगे न कि नजरें झुककर अपने कॉन्फिडेंस लेवल को गिरने देंगे |

आपके चलने की स्पीड आपके आत्मविश्वास को बढ़ाएगी –

सुस्त चाल इस बात का प्रतीक है कि आपके अंदर self-confidence की कमी हैं | जो व्यक्ति थोड़े से प्रयास के बाद हार मान लेता है, खुद को चोट खाया हुआ पाता है वह मरा-मरा चलता है, सुस्त चलता है ... उसमे आत्मविश्वास का बहुत अभाव होता है |

मैंने ऐसे बहुत से लोग देखे हैं जो अपनी लाइफ से, अपने जॉब से खुश नही हैं और मैंने पाया है कि उनके चलने की speed बहुत ही कम होती है क्योकि वे अपनी लाइफ से खुश नही होते, थके हुए होते हैं |

याद रखिये औसत लोग “औसत” चाल चलते हैं | उनकी speed हमेशा औसत ही होती है और उनके चेहरे से यह साफ़ झलकता है कि “मुझे खुद पर किसी भी प्रकार का नाज नही है, मैं हारा हुआ हूँ ” |

यदि आपको अपने आत्मविश्वास के लेवल को बढ़ाना है तो अपने चलने की गाती को बढाना होगा | आम लोगों से तेज चलना होगा | आपकी चाल में आपको फुर्ती लानी होगी | आत्मविश्वास से भरी चाल इस बात का प्रतीक है कि आप जिस महत्पूर्ण कार्य को करने के लिए जा रहे हैं उसमे आपको जरुर सफलता मिलेगी | आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए अपने कन्धों को सीधा कर लीजिए, सिर को ऊपर उठा लीजिए और थोड़े तेज कदमों से आगे की तरफ बढ़ चलिए | आप हमेशा पायेंगे कि आपका आत्मविश्वास पहले से बहुत ज्यादा बढ़ चूका है और आपके अंदर गजब की फुर्ती आ गयी है | रिजल्ट पाने से बस थोडा सा अपने चलने की गति को बढाकर देखिये वाकई इसमें गजब का बदलाव आयेगा |

बड़ी मुस्कुराहट, कुछ ज्यादा पाने और आत्मविश्वास बढ़ाने का जरिया है –

एक छोटी सी मुस्कुराहट आपके चेहरे पर रौनक ला देती है | ज्यादातर लोग यह भी कहते हैं कि उन्हें मुस्कराहट से सच्ची ताकत मिलती है और उन्हें पहले से पता होता है कि मुस्कराहट आत्मविश्वास की कमी को दूर करने का सबसे बढिया दवा है | ज्यादातर लोगों को इन बातों पर यकीन नही होता क्योकि वे डरे हुए रहते हैं और मुस्कुराना नही चाहते |

बड़ी मुस्कराहट हमेशा आपका आत्मविश्वास बढ़ती है, यह आपका डर भागाती है, आपकी चिंता दूर करती हैं और आपकी निराशा को खत्म कर देती है |

इतना ही नही,एक सच्ची मुस्कान सिर्फ आपके आत्मविश्वास को ही नही बढती या सिर्फ आपके मन की बुरी भावनाओं को ही नही हटाती ... सच्ची मुस्कराहट से आपके प्रति लोगों का विरोध भी पिघल जाता हैं और यह तत्काल होता है | अगर आप किसी को भी बड़ी-सी मुस्कान देते हैं तो सामने वाला व्यक्ति आपसे गुस्सा हो ही नही सकता | हमेशा बड़ी मुस्कुराहट देने का प्रयास करें ...आप महसूस करेंगे कि एक बार फिर ख़ुशी के दिन लौट आये हैं | लेकिन आपको मुस्कुराने में किसी प्रकार की कंजूसी नही करनी ... आधी मुस्कुराहट से कोई काम नही चलने वाला, आधी मुस्कुराहट से सफलता की गारंटी देना पॉसिबल नही ... तब तक मुस्कुराए जब तक आपके दांत न दिखने लगे ... बड़ी मुस्कराहट ही सफलता की पूरी गारंटी दे सकती हैं | मुस्कुराहट की पॉवर इतनी शक्तिशाली होती है कि आपके मन में फिर से उत्साह झलक पड़ता हैं | आत्मविश्वास सब कुछ हासिल करने का सबसे बड़ा जरिया हैं और इस जरिये को बरकरार रखने का सबसे बड़ा माध्यम मुस्कराहट है | इसलिए आज से ही बड़ी मुस्कान के साथ आगे बढ़े और बस मुस्कुराते हुए काम करते रहे, सबसे मिलते रहे ... आपका आत्मविश्वास हमेशा बढ़ता चला जाएगा |

बोलने की आदत डालिए – स्कूल, कॉलेज, ट्रेनिंग मीटिंग, बिजनेस चर्चा, इन सबमे एक चीज गौर करने वाली बात होती है, बहुत ही कम लोग डिस्कशन में भाग लेते है, discussion के दौरान बहुत्लोगों का मुँह  ही नही खुलता | ऐसा बिलकुल्क नही की उनके पास अच्छे विचार प्रेसेंट करने के लिए मौजूद नही हैं , या वे बोल नही सकते इसका कारण तो बस यह होता है कि उनकेपास आत्मविश्वास की बहुत कमी होती हैं |

जितने बार आप चुप रहेंगे , उतने बार आप असफल होंगे और आप स्वयं को उतना ही अक्षम और हीन समझते जायेंगे |

चुप रहने वाले व्यक्ति अपने बारे में कुछ इस तरह की बाते सोचते हैं – “मेरा विचार शायद काम का नही है” अगर मैं कुछ कहूगा तो शायद मेरी टीम के लोग मेरा मजाक उडाएं और मुझे बेवकूफ समझे | इसलिए बेहतर होगा कि मैं चुप ही बैठा रहूँ | इसके अलावा तेंमे मुझे बेहतर और एक से बढ़कर एक लोग हैं जो मेरी बातों को रिजेक्ट कर सकते हैं |

यह बहुत ही महत्वपूर्ण वाक्य है – “हर बार जब चुप्पा व्यक्ति बोलने में असफल रहता है तो वह आत्मविश्वास को खत्म करने वाले जहर की एक और खुराक गटक लेता हैं .. अपने आप पर विश्वास उतना ही कम हो जाता हैं ” |

अपना आत्मविश्वास बढ़ाने केलिए हमेशा बिज़नेस मीटिंग, स्कूल, कॉलेज, कॉलेज, इन सबमें खड़े होकर बोलने का प्रयास करें | सभी बातचीत में शामिल होकर अपना मत रखने की कोशिश कीजिये | कोई सवाल पूछिए, अपना सुझाव दीजिए .... सबसे पहले बोलने की आदत डालिए, अपने अंदर के झिझक को तोडिये.. पुरे आत्मविश्वास के साथ खड़े होकर अपना मत रखिये ... मुर्ख समझे जाने का डर बाहर निकाल दीजिए, मजाक उड़ाने वाली बात भूल जाइए | हमेशा ग्रुप के लीडर का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने का प्रयास कीजिये | लोगों के ध्यान को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए आपको बोलना ही होगा | यदि आत्मविश्वास बढ़ाना है तो बोलने के तरीके ढूंढिये और पुरे आत्मविश्वास से सफलता पाइए |

- चार्ल्स सिंगोरिया 

Add new comment

6 + 7 =