सूखे हाथ वाला

सन्त मारकुस के अनुसार पवित्र सुसमाचार

03:01-06

 

ईसा फिर सभागृह गये। वहाँ एक मनुष्य था, जिसका हाथ सूख गया था।

वे इस बात की ताक में थे कि ईसा कहीं विश्राम के दिन उसे चंगा करें, और वे उन पर दोष लगायें।

ईसा ने सूखे हाथ वाले से कहा, "बीच में खड़े हो जाओ"।

तब ईसा ने उन से पूछा, "विश्राम के दिन भलाई करना उचित है या बुराई, जान बचाना या मार डालना?" वे मौन रहे।

उनके हृदय की कठोरता देख कर ईसा को दुःख हुआ और वह उन पर क्रोधभरी दृष्टि दौड़ा कर उस मनुष्य से बोले, "अपना हाथ बढ़ाओ"। उसने ऐसा किया और उसका हाथ अच्छा हो गया।

इस पर फ़रीसी बाहर निकल कर तुरन्त हेरोदियों के साथ ईसा के विरुद्ध परामर्श करने लगे कि हम किस तरह उनका सर्वनाश करें।

Add new comment

4 + 10 =