"मेरे पीछे चले आओ"।

सन्त लूकस के अनुसार पवित्र सुसमाचार
05:27-32

इसके बाद ईसा बाहर निकले। उन्होंने लेवी नामक नाकेदार को चुंगीघर में बैठा हुआ देखा और उस से कहा, "मेरे पीछे चले आओ"। वह उठ खड़ा हुआ और अपना सब कुछ छोड़ कर ईसा के पीछे हो लिया। लेवी ने अपने यहाँ ईसा के सम्मान में एक बड़ा भोज दिया। नाकेदार और अतिथि बड़ी संख्या में उनके साथ भोजन पर बैठे। फरीसी और शास्त्री भुनभुनाते और उनके शिष्यों से यह कहते थे, "तुम लोग नाकेदारों और पापियों के साथ क्यों खाते-पीते हो?" ईसा ने उन्हें उत्तर दिया, "निरोगियों को नहीं, रोगियों को वैद्य की ज़रूरत होती है। मैं धर्मियों को नहीं, पापियों को पश्चाताप के लिए बुलाने आया हूँ।"

Add new comment

6 + 4 =