मेरा घर प्रार्थना का घर होगा। 

सन्त योहन के अनुसार पवित्र सुसमाचार
02:13-25 

यहूदियों का पास्का पर्व निकट आने पर ईसा येरूसालेम गये। उन्होंने मन्दिर में बैल, भेड़ें और कबूतर बेचने वालों को तथा अपनी मेंज़ों के सामने बैठे हुए सराफों को देखा। उन्होंने रस्सियों का कोड़ा बना कर भेड़ों और बेलों-सहित सब को मन्दिर से बाहर निकाल दिया, सराफों के सिक्के छितरा दिये, उनकी मेजे़ं उलट दीं और कबूतर बेचने वालों से कहा, "यह सब यहाँ से हटा ले जाओ। मेरे पिता के घर को बाजार मत बनाओ।" उनके शिष्यों को धर्मग्रन्थ का यह कथन याद आया- तेरे घर का उत्साह मुझे खा जायेगा। यहूदियों ने ईसा से कहा, "आप हमें कौन-सा चमत्कार दिखा सकते हैं, जिससे हम यह जानें कि आप को ऐसा करने का अधिकार है?" ईसा ने उन्हें उत्तर दिया, "इस मन्दिर को ढा दो और मैं इसे तीन दिनों के अन्दर फिर खड़ा कर दूँगा"। इस पर यहूदियों ने कहा, "इस मंदिर के निर्माण में छियालीस वर्ष लगे, और आप इसे तीन दिनों के अन्दर खड़ा कर देंगे?" ईसा तो अपने शरीर के मन्दिर के विषय में कह रहे थे। जब वह मृतकों में से जी उठे, तो उनके शिष्यों को याद आया कि उन्होंने यह कहा था; इसलिए उन्होंने धर्मग्रन्ध और ईसा के इस कथन पर विश्वास किया। जब ईसा पास्का पर्व के दिनों में येरूसालेम में थे, तो बहुत-से लोगों ने उनके किये हुए चमत्कार देख कर उनके नाम में विश्वास किया। परन्तु ईसा को उन पर कोई विश्वास नहीं था, क्योंकि वे सब को जानते थे। इसकी ज़रूरत नहीं थी कि कोई उन्हें मनुष्य के विषय में बताये। वे तो स्वयं मनुष्य का स्वभाव जानते थे।

Add new comment

3 + 12 =