फरीसी के यहाँ भोजन

सन्त लूकस के अनुसार पवित्र सुसमाचार

11:37-41

 

ईसा के उपदेश के बाद किसी फ़रीसी ने उन से यह निवेदन किया कि आप मेरे यहाँ भोजन करें और वह उसके यहाँ जा कर भोजन करने बैठे।

फ़रीसी को यह देख कर आश्चर्य हुआ कि उन्होंने भोजन से पहले हाथ नहीं धोये।

प्रभु ने उस से कहा, "तुम फ़रीसी लोग प्याले और थाली को ऊपर से तो माँजते हो, परन्तु तुम भीतर लालच और दुष्टता से भरे हुए हो।

मूर्खों! जिसने बाहर बनाया, क्या उसी ने अन्दर नहीं बनाया?

जो अन्दर है, उस में से दान कर दो, और देखो, सब कुछ तुम्हारे लिए शुद्ध हो जायेगा।

Add new comment

5 + 9 =