पास्का का चौथा रविवार 

(जिस प्रकार अच्छा गड़ेरिया अपनी भेड़ों की देख- रेख करता है उसी तरह येसु अपने अनुयायियों की रक्षा करते हैं। यदि हम उनकी आवाज पहचान कर उनका अनुसरण करेंगे, तो हम सदा के लिए सुरक्षित रहेंगे।)
सन्त योहन के अनुसार पवित्र सुसमाचार         10: 27-30
“मैं अपनी भेड़ों को अनन्त जीवन प्रदान करता हूँ।”
येसु ने कहा, "मेरी भेड़ें मेरी आवाज़ पहचानती हैं। मैं उन्हें जानता हूँ और वे मेरा अनुसरण करती हैं। मैं उन्हें अनन्त जीवन प्रदान करता हूँ। उनका कभी सर्वनाश नहीं होगा और कोई भी उन्हें मुझ से नहीं छीन सकेगा। मेरे पिता ने मुझे उन्हें दिया है, वह सब से महान् है। कोई भी उन्हें पिता से नहीं छीन सकता। मैं और पिता एक है।"
यह प्रभु का सुसमाचार है।

 

Add new comment

3 + 2 =