'यूखरिस्त मेरी शक्ति है': सिस्टर एलिसिया टोरेस की कहानी

सिस्टर एलिसिया टोरेस का कहना है कि एक धर्मबहन के रूप में उनकी बुलाहट बपतिस्मा में निहित है और "गंभीर रूप से यूखरिस्त से जुड़ा हुआ है", जिनकी शक्ति से वह अपने पड़ोसियों को "कठिन परिस्थितियों" में आशा देती है।
यह सब तब शुरू हुआ जब एलिसिया टोरेस लोयोला विश्वविद्यालय में एक अंडरग्रेजुएट के रूप में धर्मशास्त्र और जैव-नैतिकता विषय का अध्ययन कर रही थी। साथ ही, वह पवित्र साक्रामेंट के सामने आराधना में समय बिताया करती थी। उस कीमती समय ने उसे "प्रभु के साथ एक वास्तविक संबंध" बनाने के लिए प्रेरित किया। "यूखरिस्त न केवल वास्तविक बन गया," बल्कि उसका "बौद्धिक विश्वास" एक वास्तविक विश्वास में बदल गया कि "मेरे दिल में येसु है!"
बात यहीं खत्म नहीं हुई। जैसे-जैसे मिस्सा समारोह और उसका अपना जीवन और अधिक वास्तविक होता गया, एलिसिया को "एक धर्मबहन के रूप में पूरी तरह से प्रभु को समर्पित होने की इच्छा जगी।
वह शिकागो के यूखरिस्त के फ्रांसिस्कन नव-स्थापित धर्मसमाज में शामिल हो गई। सिस्टर एलिसिया अभी भी "चकित" है कि कैसे प्रभु ने उसे इस समुदाय में ले गया, क्योंकि वह गरीबों की सेवा में शामिल नहीं होती थी। उसने सोचा कि उसका मिशन जीवन-समर्थक आंदोलन को आगे बढ़ाना होगा, जिसमें वह हाई स्कूल के बाद से सक्रिय थी। हालाँकि, धर्मसमाज में अपने तेरह वर्षों को देखते हुए, सिस्टर एलिसिया आत्मविश्वास से कहती हैं, "प्रभु की योजना एकदम सही है।"
सिस्टर एलिसिया बताती हैं, हालांकि, असीसी के संत फ्रांसिस और यूखरिस्त के बीच एक संबंध है, "बहुत से लोगों को यह नहीं पता है कि असीसी के संत फ्रांसिस कैसे थे - उन्होंने लातेरन चौथे  परिषद के बाद पूरी दुनिया के हर पुरोहित के नाम एक पत्र लिखा था, जिसमें उन्होंने परिषद द्वारा यूखरिस्त के प्रति आदर और सम्मान को व्यवहार में लाने पर जोर दिया था।"
सिस्टर एलिसिया और उनकी धर्मबहनें "पवित्र संस्कार में उपस्थित येसु मसीह के साथ गहरा संबंध" बनाती हुई, सुसमाचार प्रचार और शिक्षा के माध्यम से गरीबों की सेवा के मिशन को आगे बढ़ाती हैं।"हमारे प्रभु की, यूखरिस्त में सच्ची उपस्थिति और लोगों में उनकी उपस्थिति के बीच एक जबरदस्त संबंध है, विशेष रूप से वे जो पीड़ित और जरूरतमंद हैं।"
सिस्टर एलिसिया कहती हैं, प्रभु ने उसे न केवल उस दिशा में ले गया, जिसके बारे में वह अनजान थी, बल्कि उसे एक ऐसे समुदाय में ले गया, जिसमें वह "शामिल होने वाली पहली बहनों में से एक" थी। यह "धर्मसमाज का शुरुआती समय" था।
सिस्टर एलिसिया अब शिकागो के नजदीक एक धर्म शिक्षिका के रूप में कार्य करती हैं। वे बताती हैं, "कक्षा के केंद्र में यूखरिस्त है और बच्चों के अनुभव का केंद्र है।" उसने व्यक्तिगत रूप से देखा है कि कैसे बहुत छोटे बच्चों को प्रभु के साथ मुलाकात करने हेतु आमंत्रित करने से यूखरिस्त में येसु की उपस्थिति में उनका विश्वास बढ़ता है। "मेरे पास एक बच्चा है जो बहुत ही कम बात करता है और मैंने यूखरिस्त पर पाठ पढ़ाने के दो महीने बाद उसे येसु की एक तस्वीर बनाने के लिए कहा।" "उसने एक सर्कल के बीच में एक क्रूस बनाया। मैंने पूछा, 'तुमने क्या बनाया?' वह बस 'ईश्वर, ईश्वर' दोहराता रहा और उस ओर इशारा करता रहा, जिसे उसने बनाया था।"
अमेरिकी धर्माध्यक्षीय सम्मेलन की एक पहल के माध्यम से सिस्टर एलिसिया का मिशन अब राष्ट्रीय बन रहा है। उसने राष्ट्रीय यूखरिस्टिक प्रचार करने वाले पुरोहितों के लिए आध्यात्मिक साधना की व्यवस्था करने में मदद की, जो अप्रैल 2022 में शिकागो के पश्चिम में सम्पन्न हुआ था। राष्ट्रीय युखरीस्तीय पुनः प्रवर्तन के संबंध में धर्माध्यक्ष "शीर्ष उपदेशक" हैं। युखरीस्तीय पुनः प्रवर्तन सम्मेलन 19 जून मसीह के पवित्र शरीर और रक्त के पर्व को शुरू किया गया और कॉर्पुस क्रिस्टी 2024 के पर्व पर एक राष्ट्रीय यूखरिस्टिक कांग्रेस के साथ समाप्त होगा।
सिस्टर एलिसिया कहती हैं कि ये धर्मसंघी और धर्मप्रांतीय पुरोहित "यूखरिस्टिक पुनः प्रवर्तन की अग्रिम पंक्ति में हैं। उसने पिछली गर्मियों में यूखरिस्टिक पुनः प्रवर्तन की कार्यकारी समिति में  अपनी सेवा देना शुरू किया, जिसमें कई लोकधर्मी भी हैं।  
पुरोहितों के साथ एक सह-समन्वयक के रूप में विशिष्ट कार्य को सौंपे जाने के बाद, जो "राष्ट्रीय यूखरिस्टिक प्रचारक" बनेंगे, उन्होंने व्यक्तिगत  रुप से पुरोहितों को इस मिशन के लिए उनकी बुलाहट को समझने में मदद करना और जानकारी प्रदान करना शुरू किया।
वे बताती हैं, "पुरोहितों में उत्साह और उनके पुरोहिताई बुलाहट के नवीनीकरण को देखना अविश्वसनीय रहा है ... क्योंकि लोगों को यूखरिस्ट और यूखरिस्ट को लोगों तक लाने में पुरोहितों की महत्वपूर्ण भूमिका है।" एक धर्मबहन के रूप में "कलीसिया में अपनी भूमिका" की खोज करना बहुत जरुरी है।
"मेरे पास देने के लिए एक सुंदर उपहार है और यह मेरे लिए बहुत ही जीवनदायी रहा है।"
"मुझे लगता है कि न केवल संयुक्त राज्य अमेरिका की कलीसिया के लिए, बल्कि पूरी दुनिया की कलीसिया के लिए पवित्र आत्मा की महान योजनाएं हैं। हमें बस रास्ता देना है, प्रभु के हाथ और पैर बनना है और प्रभु को अपने दिल को छूने देना है।"
सिस्टर एलिसिया ने एक धर्मबहन के रूप में अपनी बुलाहट को साझा किया, जो बपतिस्मा के संस्कार में गहराई से निहित है और "यूखरिस्त से गंभीर रूप से जुड़ा हुआ है।"

Add new comment

17 + 0 =