यूक्रेन युद्ध विराम हेतु कलीसिया की भूमिका अहम

कलीसियाओं के विश्व परिषद प्रतिनिधिमंडल ने यूक्रेन में शांति स्थापना के संबंध में कलीसिया के संयुक्त प्रयासों की संभावनाओं का पता लगाने हेतु यूक्रेन की चार दिवसीय यात्रा समाप्त की, डब्ल्यूसीसी केंद्रीय समिति के सभापति धर्माध्यक्ष हेनरिक बेडफोर्ड-स्ट्रॉहम की उम्मीदें हैं कि युद्ध की समाप्त में कलीसिया एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है।

अगस्त 2022 में एकजुटता यात्रा के बाद, कलीसियाओं की विश्व परिषद (डब्ल्यूसीसी) के एक उच्च-स्तरीय प्रतिनिधिमंडल ने पिछले सप्ताह पुनः यूक्रेन की यात्रा पूरी करते हुए युद्ध ग्रस्त देश में शांति स्थापना के संयुक्त प्रयासों की संभावनाओं का पता लगाया।

यह यात्रा 10-13 मई को डब्ल्यूसीसी केंद्रीय समिति के अनुरोध पर पूरी हुई जिसका मुख्य उद्देशय रूसी धार्मिक नेताओं के साथ मिलन और संवादों के माध्यम से यूक्रेन में चल रहे युद्ध के बीच शांति और मेल-मिलाप स्थापित करना है।  

इस दौर में डब्ल्यूसीसी  के महासचिव माननीय जेरी पिल्लै के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों ने स्थानीय कलीसिया के नेताओं, यूक्रेनी सरकार के अधिकारियों और अन्य लोगों के साथ गहन विचार-विमर्श किये, जिसमें उन्होंने एकता की आवश्यकता और कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर जोर दिया।

11 मई को प्रतिनिधिमंडल ने दोनों यूक्रेनी ऑर्थोडॉक्स कलीसिया के वरिष्ठ नेताओं से भेंट की जो औपचारिक रूप से मॉस्को के प्राधिधर्माध्यक्ष और यूक्रेन के ऑटोसेफालस ऑर्थोडॉक्स कलीसिया से संबद्धित थे, जिनका पुराना विवाद रूसी आक्रमण के बाद और भी गहन हो गया है।

प्रतिनिधिमंडल ने यूक्रेन के धार्मिक समुदायों के बीच सद्भाव को बढ़ावा देने के लिए दो प्रतिद्वंद्वी कलीसियाओं के बीच चर्चाओं की मेजबानी करने के लिए डब्ल्यूसीसी की तत्परता की पुष्टि की, जो राष्ट्रीय एकता के लिए एक आवश्यक तत्व है जिसकी देश को सख्त जरूरत है।  यूक्रेनी ऑर्थोडॉक्स नेताओं ने बातचीत में शामिल होने की इच्छा के स्पष्ट संकेत दिए, जो डब्ल्यूसीसी के अनुसार, “कई घावों और विभाजनों की चंगाई हेतु आशा के संकेत हैं जिसे इस दुखद युद्ध ने गहरा कर दिया है”।

उसी दिन, प्रतिनिधिमंडल ने यूक्रेन की संस्कृति और सूचना नीति मंत्री श्री ओलेक्ज़ेंडर टकाचेंको और यूक्रेन की कलीसिया और धार्मिक संगठनों की परिषद के सदस्यों से भी मुलाकात की। बैठक में यूक्रेनी धार्मिक प्रतिनिधियों ने डब्ल्यूसीसी प्रतिनिधिमंडल के साथ यूक्रेन में अंतर-विश्वास सहयोग के अनुभव को साझा किया और युद्ध के दौरान कलीसिया की प्रेरिताई और मानवीय गतिविधियों के बारे में बात की और आश्वासन दिया कि यूक्रेन उच्च स्तर की धार्मिक स्वतंत्रता सुनिश्चित करता है।

प्रतिनिधिमंडल के सदस्य और डब्ल्यूसीसी केंद्रीय समिति के संचालक, धर्माध्यक्ष हेनरिक बेडफोर्ड-स्ट्रॉहम ने वाटिकन न्यूज को बतलाया कि परिषद उम्मीद करती है कि यूक्रेन में दो ऑर्थोडाक्स कलीसियाओं द्वारा वार्ता हेतु खुलापन “कुछ समस्याओं के समाधान” हेतु महत्वपूर्ण कदम हो सकते हैं।

साक्षात्कार में, धर्माध्यक्ष बेडफोर्ड-स्ट्रॉहम ने कहा, “हम आशा करते हैं कि कलीसियाओं के रूप में हम सैन्य कार्रवाई स्थिति में अंतर ला सकते हैं। आक्रामक के खिलाफ रक्षा, सैन्य रक्षा भी आवश्यक है, लेकिन यह केवल एक चीज नहीं हो सकती है। हमें संवाद के ऐसे तरीके भी खोजने होंगे जो युद्ध उपरांत एक नया मार्ग प्रशस्त करता हो और मुझे लगता है कि कलीसियाओं को इसमें एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने की जरुरत है।”

Add new comment

7 + 2 =