मानवाधिकार कार्यकर्ता के उत्पीड़न को रोकने का आग्रह। 

भारत के "सीवीकुस" नामक वैश्विक नागर समाज सम्बन्धी संगठन ने "सेंटर फॉर इक्विटी स्टडीज" के निर्देशक, मानवाधिकार कार्यकर्त्ता हर्ष मंदर से जुड़ी सुविधाओं पर हाल ही में किए गए छापे की निंदा की है, और भारत सरकार से मानवाधिकार के कार्यकर्त्ताओं को डराना बंद करने का आह्वान किया है।
16 सितम्बर को मानवाधिकार कार्यकर्त्ता हर्ष मन्दर के निवास, कार्यालय तथा उनके द्वारा संचालित एक बाल आश्रम पर वित्त मंत्रालय के कर्मचारियों ने छापा मारा था। छापरा तब मारा गया जब श्री मन्दर जर्मनी में एक लोकोपकारी संगठन के कार्यक्रम में शामिल होने के लिये चले गये थे।  
सरकारी कर्मचारियों के छापा मारने के उपरान्त भारत के लगभग 500 मानवाधिकार कार्यकर्त्ताओं ने एक संयुक्त वकतव्य प्रकाशित कर इसकी निन्दा की तथा श्री मन्दर के प्रति एकातद्मता का प्रदर्शन किया। "सीवीकुस" नामक  वैश्विक नागर समाज सम्बन्धी संगठन के सदस्य तथा एशिया प्रशांत के लिए नागरिक अंतरिक्ष शोधकर्ता जोसफ बेनेडिक्ट ने कहा, "अधिकारियों को मानवाधिकार कार्यकर्ता हर्ष मंदर के उत्पीड़न को रोकना चाहिए। “अधिकारियों को मानवाधिकार कार्यकर्ता हर्ष मंदर के उत्पीड़न को रोकना चाहिए।
"अधिकारियों मानव अधिकारों के उनके उत्पीड़न कार्यकर्ता हर्ष मंदर को रोकने चाहिए।
प्रवर्तन निदेशालय द्वारा की गई ये कार्रवाई मानवाधिकार रक्षकों को डराने और अपराधी बनाने की एक स्पष्ट रणनीति है। प्रवर्तन निदेशालय द्वारा की गई ये कार्रवाई डिफेंडर को डराने और अपराधी बनाने की एक स्पष्ट रणनीति है।
प्रवर्तन निदेशालय द्वारा किए गए इन कार्यों के लिए एक स्पष्ट रणनीति को धमकाना और रक्षक अपराध कर रहे हैं।
यह सरकारी आलोचकों को आत्म-सेंसरशिप के लिए मजबूर करने की रणनीति है।"
मानवाधिकार कार्यकर्ता हर्ष मंदर कई मौकों पर मौजूदा सरकार की आलोचना करते रहे हैं, विशेष रूप से, कोविद महामारी के दौरान ज़रूरतमन्दों की अनदेखी करने का उन्होंने भारत सरकार पर आरोप लगाया है।  यह सरकारी आलोचकों पर एक ठंडा प्रभाव भी पैदा करता है और कई लोगों को आत्म-सेंसरशिप के लिए मजबूर करने की रणनीति है।"
यह भी सरकार के आलोचकों पर एक द्रुतशीतन प्रभाव पैदा करता है और एक रणनीति स्वयं सेंसरशिप के लिए कई मजबूर करने के लिए है।"

Add new comment

9 + 1 =