चेरनोबिल चैरिटी ˸ यूक्रेन में बाल कल्याण मानवीय संकट सामने

यूक्रेन में जब युद्ध जारी है चेरनोबिल बाल अंतरराष्ट्रीय संगठन के प्रमुख अदी रोक ने बतलाया कि सबसे कमजोर बच्चों की मदद के लिए वे किस तरह से एकजुट रहे हैं।
चेरनोबिल बाल अंतरराष्ट्रीय संगठन के संस्थापक एवं प्रमुख अदी रोक ने कहा, "मैं 24 फरवरी से युद्ध के इस कोहरे में हूँ, "हर जन की तरह, मैंने भी यूक्रेन पर रूसी आक्रमण की भयानक खबर सुनते हुए जागा।"
26 अप्रैल 1986 की तारिख उनके मानस पटल पर अंकित है, जब यूक्रेन की राजधानी कीव से 130 किमी उत्तर में चेरनोबिल संयंत्र में एक विस्फोट हुआ था, जिससे दुनिया की सबसे भीषण परमाणु आपदा हुई थी।
उनके संगठन ने करीब 36 वर्षों तक चेरनोबिल, बेलारूस एवं यूक्रेन के बच्चों को अथक मदद पहुँचायी है। उन्होंने युद्ध की शुरुआत में चेरनोबिल संयंत्र के कब्जे को एक अशुभ संकेत के रूप में वर्णित किया है।
अदी उस क्षेत्र के कई कस्बों और गांवों में लोगों के समुदायों से परिचित हैं, जहां तीन लाख लोग, पांच या छह सप्ताह की अवधि से बंकरों में आतंक में रह रहे थे, जब तक कि रूसी सैनिकों ने परमाणु संयंत्र नहीं छोड़ा।
"वे हमारे पास आये और मैं उनके शब्दों को अभी भी याद करता हूँ, 'हमें अपनी करुणा मत भेजो, हमें अपना प्यार और एकजुटता मत दो; हमें पानी चाहिए, हमें खाना चाहिए। हम बम या बंदुक से नहीं मरंगे बल्कि भूख और प्यास से मर जायेंगे।"  
कई संगठनों द्वारा मदद की अपील किये जाने पर रोक ने मदद देने हेतु कदम उठाया और उस क्षेत्र से सैनिकों की वापसी के 24 घंटों के भीतर, अपने संगठन की ओर से, जरूरतमंद लोगों को भोजन और पानी पहुंचाना शुरू किया।
चेरनोबिल चिल्ड्रन इंटरनेशनल ने 1986 की परमाणु आपदा के बाद से विशिष्ट कार्यक्रमों के रूप में सहायता और देखभाल प्रदान करना जारी रखा है, उदाहरण के लिए बेलारूस और यूक्रेन में बाल हृदय शल्य चिकित्सा कार्यक्रम।
चैरिटी का एक केंद्र खारकिव में भी मदद दे रहा है जिसपर कोविड-19 के कारण पहले से काफी दबाव है।
युद्ध के शुरू के दिनों में, प्रमुख सर्जन और उनकी टीम ने अस्पताल के तहखाने में ऑपरेशन करते रहने का दृढ़ निश्चय किया।
रोक कहती हैं कि जिस बात ने सर्जन और उनकी पत्नी को भागने के लिए प्रेरित किया, वह तब हुआ जब शहर में उनके अपार्टमेंट की इमारत पर बमबारी की गई, जिससे सिर्फ कपड़े बच गये।
36 वर्षों से, अदी रोक और उनके द्वारा स्थापित संगठन, चेरनोबिल के बच्चों के लिए मददगार रहा है। अब इस साल युद्ध जारी है, वे कहती हैं कि "हम यूक्रेन पर नजर रखेंगे...आप नहीं भूलाये गये हैं।"

Add new comment

2 + 1 =