गोवा की झुग्गी बस्ती में होली फैमिली सिस्टर ने किया मुफ्त चिकित्सा शिविर का आयोजन। 

जुआरीनगर, 23 सितंबर, 2021: गोवा की होली फैमिली सिस्टर्स द्वारा प्रबंधित एक सामाजिक सेवा केंद्र ने दक्षिण-पश्चिमी भारतीय राज्य में एक स्लम क्षेत्र के लिए एक मुफ्त चिकित्सा शिविर आयोजित करने के लिए महामारी के खतरों का सामना किया है। किरण निकेतन सोशल सेंटर बिड़ला जुआरीनगर क्षेत्र की मलिन बस्तियों के अंदर स्थित है और इसके निवासी ज्यादातर हाशिए पर रहने वाले और वंचित प्रवासी हैं।
सिस्टर्स पिछले 25 वर्षों से स्लम क्षेत्र की सेवा कर रही हैं। उन्होंने येसु, मरियम और जोसेफ मण्डली की बहनों के सहयोग से चिकित्सा शिविर का आयोजन किया, जो क्षेत्र में एक सामान्य अस्पताल का प्रबंधन करती थी।
होली फैमिली सिस्टर फिलेशिन डिसूजा, जिन्होंने चिकित्सा शिविर का नेतृत्व किया, ने कहा कि उनके "साहसी कार्य" ने न केवल महिला शक्ति को प्रकट किया बल्कि कई हाशिए के लोगों को लाभान्वित किया। 26 अगस्त के शिविर में नि:शुल्क रक्त परीक्षण और चिकित्सा जांच की गई और 38 महिलाओं, 28 बच्चों और सात पुरुषों ने इस सुविधा का लाभ उठाया।
सिस्टर डी सूजा ने कहा कि उन्होंने शिविर का आयोजन इसलिए किया क्योंकि झुग्गी-झोपड़ी के वंचित लोग शायद ही अपनी बीमारी के लिए गुणवत्तापूर्ण इलाज का खर्च उठा सकते थे। उन्होंने मैटर्स इंडिया को बताया, "भारतीय सामाजिक संस्थान बैंगलोर की उदारता और निरंतर मार्गदर्शन और गोवा प्रांत के जेसुइट्स के समर्थन और प्रोत्साहन के कारण प्रवासियों के लिए यह मदद संभव थी।"
शिविर दोपहर 3 बजे एक महिला डॉक्टर, दो नर्स और दो लैब टेक्नीशियन के साथ शुरू हुआ। कई झुग्गीवासियों को वायरल फीवर था। स्वस्थ भोजन की कमी के कारण वे कुपोषित थे। जांच के बाद मरीजों को नि:शुल्क दवाएं दी गईं और आवश्यक एहतियाती उपाय बताए गए। महिलाओं के एक समूह ने कहा कि उन्हें पहली बार अपने खून का पता चला।
देवीबाई राठौड़ ने कहा- “मुझे अपने ब्लड ग्रुप की जानकारी नहीं थी। मुझे बहुत खुशी है कि मुझे पता चला कि मेरा ब्लड ग्रुप ओ पॉजिटिव था।”
एक युवा अविवाहित महिला रुक्षरशेख ने कहा: “मैंने महिला डॉक्टर के साथ अपने स्वास्थ्य के मुद्दों को साझा करने में अधिक सहज महसूस किया। वह बहुत अच्छी थी और मुझसे अच्छी तरह बात भी करती थी और मुझे उपयोगी जानकारी भी देती थी।”

Add new comment

1 + 3 =