कार्डिनल लेवादा नहीं रहे

कार्डिनल विलियम जोसफ लेवादा, 26.09.2019

 रोम में गुरुवार को वाटिकन स्थित विश्वास एवं धर्म सिद्धान्त सम्बन्धी परमधर्मपीठीय समिति के पूर्वाध्यक्ष कार्डिनल विलियम लेवादा का निधन हो गया। कार्डिनल लेवादा के निधन के साथ ही काथलिक कलीसिया के कार्डिनल मण्डल में अब 212 कार्डिनल रह गये हैं, जिनमें से 92 कार्डिनल सेवानिवृत्त हैं, अतः भावी सन्त पापा के चुनाव में मतदान के योग्य नहीं हैं।   

कलीसिया को अर्पित सेवा

कार्डिनल विलियम लेवादा का जन्म लॉस एन्जेलस महाधर्मप्रान्त के लाँग बीच में 15 जून 1936 ई. को हुआ था। वाटिकन स्थित सन्त पेत्रुस महामन्दिर में, 20 दिसम्बर, 1961 को आपका पुरोहिताभिषेक हुआ। लॉस एन्जेलस महाधर्मप्रान्त में पल्ली पुरोहित, गुरुकुल अध्यक्ष आदि पदों पर काम करने के उपरान्त सन् 1976 में आप वाटिकन स्थित विश्वास एवं धर्म सिद्धान्त सम्बन्धी परमधर्मपीठीय समिति में सेवा अर्पित करने के लिये बुलाये गये थे। 1976 से 1982 तक समिति में काम करने के साथ-साथ आप अरबन परमधर्मपीठीय विश्वविद्यालय में प्राध्यपक भी रहे।

सन् 1983 में सन्त पापा जॉन पौल द्वितीय ने आपको लॉस एन्जेलस महाधर्मप्रान्त के लिये  धर्माध्यक्ष मनोनीत किया तथा उसी वर्ष 12 मई को आपका धर्माध्यक्षीय अभिषेक सम्पन्न हुआ।  तदोपरान्त नौ वर्षों तक आप पोर्टलैण्ड के धर्माध्यक्ष पद पर सेवाएँ अर्पित करने के बाद, 1995 में, सान फ्राँसिसको के महाधर्माध्यक्ष नियुक्त किये गये थे। 1986 से 1993 तक आपने काथलिक कलीसिया की धर्मशिक्षा को अँग्रेज़ी भाषा में अनूदित करनेवाली समिति में महत्वपूर्ण योगदान दिया था।

सन् 2000 में आप वाटिकन स्थित विश्वास एवं धर्म सिद्धान्त सम्बन्धी परमधर्मपीठीय समिति के स्थायी सदस्य नियुक्त किये गये थे। 2005 में सन्त पापा बेनेडिक्ट 16 वें द्वारा आप उक्त समिति के अध्यक्ष नियुक्त किये गये थे तथा 24 मार्च, 2006 को आप कार्डिनल नियुक्त किये गये थे। सन् 2012 में आप सेवानिवृत्त हो गये थे। अपने कार्यकाल के दौरान आप एक्लेज़िया देई परमधर्मपीठीय आयोग, परमधर्मपीठीय बाईबिल आयोग तथा अन्तरराष्ट्रीय ईशशास्त्रीय आयोग के भी अध्यक्ष रहे थे।           

Add new comment

1 + 16 =