नीदरलैंड दूतावास ने धन्य तीतुस ब्रांडसमा को श्रद्धांजलि अर्पित की

नीदरलैंड के दूतावास ने जर्मन पत्रकार और द्वितीय विश्व युद्ध के शहीद फादर तीतुस ब्रांडसमा की वीर भूमिका को देखते हुए एक सम्मेलन का आयोजन किया। सत्य, मानवाधिकारों और प्रेस की स्वतंत्रता को बढ़ावा देने में तीतुस ब्रांडसमा को अपने जीवन की कीमत चुकानी पड़ी। संत पापा फ्राँसिस 15 मई को उन्हें संत घोषित करेंगे।
रविवार 15 मई को संत पापा फ्राँसिस संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्रांगण में पवित्र मिस्सा समारोह के दौरान दस धन्यों के संत घोषित करेंगे। दस धन्यों के नाम निम्नलिखित हैं, तीतुस ब्रांडसमा, भारत के लाजर, जिसे देवसहायम भी कहा जाता है; चेसर दी बुस, लुइजी मारिया पलाज़ोलो, जुस्टीनो मारिया रुस्सोलिल्लो, चार्ल्स डी फौकॉल्ड, मेरी रिवियर, मारिया फ्रांचेस्का दी जेसु रूबातो, मारिया दी जेसु सांतोकनाले और मारिया दोमिनिका मानतोवानी।
परमधर्मपीठ के लिए जर्मन दूतावास अपने साथी देशवासी, कार्मेलाइट फादर तीतुस ब्रांडसमा, एक धर्मशास्त्री, पत्रकार और लेखक को श्रद्धांजलि अर्पित कर रहा है, जिन्होंने द्वितीय विश्व युद्ध से पहले जर्मनी में नाजियों द्वारा पारित यहूदी-विरोधी कानूनों के खिलाफ जबरदस्त विरोध किया था।
1881 में जन्मे, धन्य तीतुस कार्मेलाइट पुरोहित, एक जर्मन धर्मशास्त्री, पत्रकार और लेखक थे, जिन्होंने द्वितीय विश्व युद्ध से पहले जर्मनी में नाजियों द्वारा पारित यहूदी-विरोधी कानूनों का जबरदस्त विरोध किया और उनके खिलाफ आवाज उठाई। जब जर्मनी ने नीदरलैंड पर आक्रमण किया तो उसे गिरफ्तार कर लिया गया और कहा गया कि अगर वे घोषणा करेंगे कि काथलिक अखबारों को नाजी प्रचार प्रकाशित करना चाहिए तो उन्हें एक मठ में एक शांत जीवन जीने की अनुमति दी जाएगी। धन्य फादर तीतुस ने इनकार कर दिया और 26 जुलाई 1942 को डचाऊ नजरबंद शिविर में कठिनाई और भुखमरी से 61 वर्ष की उम्र में उनकी मृत्यु हो गई। संत पापा जॉन पॉल द्वितीय ने 1985 में फादर तितुस को धन्य घोषित करते हुए कहा कि उन्होंने "प्यार से नफरत का जवाब दिया।"
परमधर्मपीठ के लिए नीदरलैंड के दूतावास ने धन्य तीतुस की वीर भूमिका को देखते हुए एक सम्मेलन का आयोजन किया है। ब्रांडसमा ने मानवाधिकारों, प्रेस की स्वतंत्रता को बढ़ावा देने और इन मूल्यों के लिए अपने जीवन का बलिदान कर दिया।
नीदरलैंड की राजदूत करोलिन वीजर्स ने वाटिकन न्यूज के गुडरून सेलर के साथ सम्मेलन के बारे में और फादर ब्रांडसमा की वीरता के बारे में बात की। जिनकी मिसाल और विरासत सभी धर्मों के लोगों को प्रेरित करती रहेगी।

Add new comment

1 + 9 =