देश-विदेश और चर्च न्यूज़ | RVA Hindi | RVA News | May 11

  1. भारत के प्रति सन्त पिता फ्राँसिस की एकात्मता
  2. कोविड-19 से मुक्ति के लिए भारतीय ख्रीस्तियों द्वारा एक दिवसीय प्रार्थना  एवं उपवास किया गया
  3. शवों से कपड़े चुराने के आरोप में 07 लोग गिरफ्तार।
  4. झाबुआ धर्मप्रांत के बिशप बेसिल भूरिया का निधन।
  5. गांवों में तेजी से फैल रहा है कोरोना का संक्रमण

 

 

भारत के प्रति सन्त पिता फ्राँसिस की एकात्मता

सन्त पिता  फ्राँसिस ने  एक ट्वीट सन्देश प्रकाशित कर कोविद-19 महमारी से पीड़ित भारत के लोगों के प्रति एकात्मता एवं आध्यत्मिक सामीप्य व्यक्त किया है। सन्त पिता  फ्राँसिस ने लिखाः  अपनी प्रार्थनाओं का आश्वासन देते हुए मैं समस्त भारतीय लोगों के प्रति अपनी हार्दिक एकात्मता एवं आध्यत्मिक निकटता व्यक्त करना चाहता हूँ। मेरी मंगलयाचना है कि ईश्वर इस गम्भीर महामारी से प्रभावित सभी लोगों को चंगाई प्रदान करें।

 

कोविड-19 से मुक्ति के लिए भारतीय ख्रीस्तियों द्वारा एक दिवसीय प्रार्थना  एवं उपवास किया गया

भारत के ख्रीस्तियों ने 7 मई को कोविड -19 के संकट से मुक्ति हेतु उपवास और प्रार्थना का दिवस रखा। कोविड-19 की दूसरी लहर ने अत्याधिक संक्रमण और मौतों के साथ देश की स्वास्थ्य प्रणाली चरमरा गई  भारतीय काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन ने मई के पहले शुक्रवार को एक दिवसीय प्रार्थना एवं उपवास दिवस रखा था। सीबीसीआई के अध्यक्ष मुम्बई के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल ऑस्वल्ड ग्रेसियस ने पूरे देश के धर्माध्यक्षों से आग्रह किया था कि वे अपने महागिरजाघरों में अथवा धर्माध्यक्षीय आवासों में दोपहर को एकजुट होकर प्रार्थना करें।

 

शवों से कपड़े चुराने के आरोप में 07 लोग गिरफ्तार।

पुलिस ने रविवार को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बागपत में मृतकों के कपड़े चोरी करने के आरोप में 07 लोगों को गिरफ्तार किया है।सर्कल ऑफिसर आलोक सिंह ने संवाददाताओं से कहा- पूछताछ के दौरान पता चला कि वे मृतकों की बेडशीट, साड़ी, कपड़े चोरी करते थे। उन्होंने अधिकारी से कहा कि वे चीज़ों को अच्छी तरह से धोना और उन्हें इस्त्री करना, फिर से ग्वालियर कंपनी के लेबल का उपयोग करके इसे बेच देंगे।पुलिस ने यह भी पाया कि इलाके के कुछ कपड़ा व्यापारियों ने इन लोगों के साथ एक सौदा किया था और उन्हें एक दिन की लूट के लिए 300 रुपये का भुगतान किया था।

 

झाबुआ धर्मप्रांत के बिशप बेसिल भूरिया का निधन।

झाबुआ धर्मप्रांत के बिशप बेसिल भूरिया का   6 मई दोपहर 01:10 बजे सेंट फ्रांसिस हॉस्पिटल इंदौर में निधन हो गया। वे 67 साल के थे। वे covid-19 संक्रमित पाए गए थे। तब उन्हें इंदौर के सेंट फ्रांसिस हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। बिशप बेसिल भूरिया का जन्म 08 मार्च 1956 को पंचकुई, झाबुआ में हुआ था। 05 मई 1986 को उनका पुरोहिताभिषेक हुआ था। 18 जुलाई 2017 को उन्हें झाबुआ धर्मप्रांत का बिशप नियुक्त किया गया था। उन्होंने लगभग 06 वर्षो तक बिशप के रूप में अपनी सेवाएं कलीसिया को दी।

 

गांवों में तेजी से फैल रहा है कोरोना का संक्रमण

गांवों में जिस तेजी से कोरोना फैल रहा है। गांवों में हालात ऐसे हैं कि हर चौथे घर में सर्दी-खांसी, बुखार का मरीज है। न लोग टेस्ट करा रहे, न ही इलाज, क्योंकि यहां दोनों की व्यवस्था नहीं है। यहां टेस्ट को लेकर वे ही लोग जागरूक हैं, जिनके घर मौत हुई है। बीमार इसे टायफाइड समझकर झोलाछाप डॉक्टरों से इलाज करा रहे हैं तो गंभीर मरीजों के इलाज के लिए जादू-टोने किए जा रहे हैं।कई गांवों में एक जैसे हालात हैं। शादी और मृत्युभोज में भीड़ जुट रही है। लोग पहले की तरह इकट्ठा हो रहे हैं। न सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल है, न ही मास्क का।भोपाल से सटे पांच गांवों में बीते तीन हफ्ते में 2539 लोगों में कोरोना के लक्षण मिले हैं। इनमें से 87 संक्रमित हो चुके हैं।

Add new comment

6 + 14 =