आगमन का चौथा रविवार

चौथी मोमबत्ती: देवदूत मोमबत्ती शांति की मोमबत्ती

ख्रीस्त में प्यारे विश्वासियों, आज हम आगमन काल के चौथे रविवार में प्रवेश कर चुके है। हम पिछले तीन सप्ताह से स्वयं को ख्रीस्त जयंती मनाने के लिए तैयार कर रहे है। माता कलीसिया ख्रीस्त जयंती के अंतिम पडाव में पहूँच चुकी है। साथ ही हम उत्सुकता के साथ प्रभु येसु के आने की प्रतीक्षा में लगे हुए है। आगमन के चौथे रविवार को चौथी और आखिरी बैंगनी मोमबत्ती जलाई जाती है, जिसे देवदूत मोमबत्ती या "एंजल्स कैंडल" भी कहा जाता है। यह मोमबत्ती शांति का प्रतिनिधित्व करती है।

स्वर्गदूतों ने घोषणा की कि येसु शांति लाने के लिए आया - वह लोगों को ईश्वर के और करीब, एवं एक-दूसरे को फिर से ईश्वर से मिलाने आया।

एकाएक उस स्वर्गदूत के साथ स्वर्गीय सेना का विशाल समूह दिखाई दिया, जो यह कहते हुए ईश्वर की स्तुति करता था, "सर्वोच्च स्वर्ग में ईश्वर की महिमा प्रकट हो और पृथ्वी पर उसके कृपापात्रों को शान्ति मिले!" (सन्त लूकस 2:13-14)

तो साथियों, आइये हम बालक येसु को अपने हृदय में जगह देने के लिए पवित्र एवं आध्यात्मिक रूप से स्वयं को तैयार करे, जिससे ईश्वर हमारे हृदयों को अपना निवास स्थान बना ले।

आमेन!

Add new comment

1 + 0 =