हम सभी गलतियाँ करते हैं पर ईश्वर क्षमा करते हैं

सिलिवरी का जेल (प्रतीकात्मक तस्वीर)

आत्मविश्वास के साथ भविष्य की तलाश, परिवर्तन का मार्ग जारी रखने हेतु संत पापा फ्राँसिस ने गोरगोना द्वीप स्थित जेल के कैदियों को एक पत्र लिखा। संत पापा के पत्र को रविवार 23 जून को कार्डिनल अर्नेस्ट सिमोनी ने पढ़ा, जो खुद अल्बानिया में 20 से भी अधिक वर्षों तक अन्याय से कैदी बनाये गये थे।

कार्डिनल अर्नेस्ट सिमोनी को अल्बानिया की कम्युनिस्ट शासन ने 25 साल के लिए खदान में और स्कूटरी के सीवर में जबरन श्रम की सजा सुनाई थी। 91 वर्षीय कार्डिनल अर्नेस्ट आज फ्लोरेंस में सांता मारिया डेल फियोर के महागिरजाघर में कुछ वर्षों से रह रहे हैं। वे जेल की पीड़ा और अन्याय को भली-भांति जानते हैं।

जेल में जीना आसान नहीं

संत पापा फ्राँसिस ने कैदियों को पत्र द्वारा उनके अनुभवों को बांटने के लिए धन्यवाद दिया। कैदियों ने यह भी लिखा कि जेल के अंदर उन्हें अपने जीवन को सुधारने, पुनः अपनी जीविका उपार्जन के लिए ट्रेनिंग लेने का व्यवस्था है साथ ही वे जेल में काम करके अपने लिए कुछ रुपये जमाकर रहे हैं। संत पापा ने पत्र में लिखा कि जेल की परिस्थिति में जीना बहुत आसान नहीं है। इसलिए संत पापा हमेशा स्थानीय कलीसिया के समुदायों को इन स्थानों का दौरा करने उनकी बातों को सुनने और कलीसिया के मातृत्व प्रेम और निकटता को प्रकट करने के लिए प्रेरित करते हैं। संत पापा कहते हैं ,"हम सभी जीवन में गलती करते हैं और हम सभी पापी हैं। और हम सभी इन गलतियों के लिए माफ़ी मांगते हैं और हम पुनर्मूल्यांकन के रास्ते पर हैं, ताकि गलतियाँ न हों। जब हम प्रभु से क्षमा माँगने जाते हैं, तो वे हमेशा क्षमा कर देते हैं।”

भविष्य में आशा रखें

संत पापा ने पत्र में जेल के अंदर कार्यरत उन सभी लोगों को भी धन्यवाद दिया जो कैदियों के जीवन को बेहद बनाने के लिए प्रशिक्षण देते हैं। संत पापा ने कैदियों को विश्वास के साथ भविष्य को देखने के लिए प्रोत्साहित किया। जेल में कार्यारत शिक्षकों और पुरोहितों द्वारा मानसिक और आध्यत्मिक मदद पायें और विश्वास में दृढ बने रहें क्योंकि प्रभु दया के धनी हैं। माता मरियम के संरक्षण में उन्हें सौंपते हुए संत पापा ने आशीर्वाद देते हुए अपने पत्र को समाप्त किया।

द्वीप-जेल

रविवार को गोरगोना जेल के गिरजाघर में कार्डिनल सिमोनी और जेल के चैपलिन फादर दीदिये ओकीटो के साथ पवित्र मिस्सा का अनुष्ठान किया, जिसमें जेल के पुलिस अधिकारियों, कैदियों और द्वीप के निवासियों ने भाग लिया। फिर उन्होंने कैदियों के साथ दोपहर का भोजन किया, उनकी कहानियों को सुना और उनके साथ अपने कारावास जीवन को भी साझा किया। अल्बानिया के कम्युनिस्ट जेल की तुलना करते हुए कहा, “आपकी जेल एक पांच सितारा होटल है। लेकिन मैं समझता हूँ और आपके दुःख को साझा करता हूं और मैं आपसे आग्रह करता हूं, जैसा कि पोप ने कहा, मसीह पर भरोसा करें। अपने गलत आचरण द्वारा आपने खुद को और दूसरों को दुःख दिया है। यह समय खुद को मजबूत करने का समय है। बुजुर्ग कार्डिनल ने कैदियों के कार्यस्थलों विशेष रूप से दाखबारियों, अस्तबल और खेतों का दौरा किया।

Add new comment

8 + 8 =

Please wait while the page is loading