जल बिन सब सून

रहिमन पानी राखिये, बिन पानी सब सून।

पानी गये न ऊबरे, मोती, मानुष, चून॥

इस दोहे में रहीम पानी की महत्ता बतलाते हुए कहते है कि पानी के बिना सबकुछ सूना है। जल जीवन के लिए कितना महत्वपूर्ण है यह बात इस दोहे के द्वारा सार्थक सिद्ध होती है। जल प्रकृति द्वारा मनुष्य को दिए गए प्रमुख संसाधनों में से एक है। जल की महत्ता से हम सभी भली-भाँति परिचित है। "जल है तो कल है" यह वाक्य हम बचपन से पढ़ते एवं सुनते आ रहे है। इसके बावजूद जल को बेवजह बर्बाद किया जा रहा है। हमें यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि जल-संकट का समाधान जल के संरक्षण से ही है क्योंकि हम जल का उत्पादन नहीं कर सकते है।

दूसरे शब्दों में, पानी के बिना मानव जीवन की कल्पना करना असंभव है। यह बात सभी जानवरों और पौधों के लिए भी कही जा सकती है। वास्तव में, पूरी पृथ्वी पानी के बिना पीड़ित होगी। पृथ्वी के लगभग 70% हिस्से पर पानी है। हालांकि, इसकी विशाल बहुतायत के बावजूद, पानी बहुत सीमित है। यह एक गैर-नवीकरणीय संसाधन है। इसके अलावा, हमें इस तथ्य को महसूस करने की आवश्यकता है कि हालांकि पानी की प्रचुरता है, लेकिन यह सभी उपभोग करने के लिए सुरक्षित नहीं है। हम दैनिक आधार पर पानी से कुछ बहुत आवश्यक उपयोग प्राप्त करते हैं। हम सभी जानते है कि पानी एक रासायनिक यौगिक है जिसके हाइड्रोजन के दो अणु और ऑक्सीजन का एक अणु मिलने से पानी का एक अणु बनता है। पानी का अपना ना तो कोई स्वाद होता है और ना कोई रंग। पानी तीन रूपों तरल, ठोस एवं गैस में पाया जाता है।

 

पानी का महत्व

यदि हम अपने व्यक्तिगत जीवन के बारे में बात करते हैं, तो पानी हमारे अस्तित्व की नींव है। मानव शरीर को जीवित रहने के लिए पानी की आवश्यकता होती है। हम पूरे एक सप्ताह तक बिना किसी भोजन के जीवित रह सकते हैं, लेकिन पानी के बिना, हम 3 दिनों तक भी जीवित नहीं रह सकते हैं। इसके अलावा, हमारे शरीर में ही 70% पानी शामिल है। यह बदले में, हमारे शरीर को सामान्य रूप से कार्य करने में मदद करता है। इस प्रकार, पर्याप्त पानी की कमी या दूषित पानी की खपत मनुष्यों के लिए गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकती है। इसलिए, पानी की मात्रा और गुणवत्ता जो हम उपभोग करते हैं वह हमारे शारीरिक स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है।

इसके अलावा, हमारी दैनिक गतिविधियाँ पानी के बिना अधूरी हैं। चाहे हम सुबह उठकर ब्रश करने या अपने भोजन को पकाने की बात करें, यह भी उतना ही महत्वपूर्ण है। पानी का यह घरेलू उपयोग हमें इस पारदर्शी रसायन पर बहुत निर्भर करता है। इसके अलावा, बड़े पैमाने पर, उद्योग बड़े पैमानें पर पानी का उपभोग करते हैं। उन्हें अपनी प्रक्रिया के लगभग हर चरण के लिए पानी की आवश्यकता होती है। यह हमारे द्वारा प्रतिदिन उपयोग किए जाने वाले सामानों के उत्पादन के लिए आवश्यक है। यदि हम मानव उपयोग से परे देखते हैं, तो हम महसूस करेंगे कि पानी हर जीवित प्राणी के जीवन में एक प्रमुख भूमिका निभाता है। यह जलीय जंतुओं का घर है। एक छोटे कीड़े से एक व्हेल तक, प्रत्येक जीव को जीवित रहने के लिए पानी की आवश्यकता होती है। इसलिए, हम देखते हैं कि न केवल इंसानों को बल्कि पौधों और जानवरों को भी पानी की आवश्यकता होती है। पृथ्वी कार्य करने के लिए पानी पर निर्भर करती है।

पृथ्वी पर जीवन पानी की वजह से ही संभव है। मगर दिनों दिन पृथ्वी से जलस्तर कम होता चला जा रहा है। अगर हमने आज ही जल संरक्षण हेतु कोई ठोस कदम नहीं उठाये तो वो दिन दूर नहीं जब इस धरती से पानी पूर्ण रूप से समाप्त हो जाएगा। सबसे पहले, हरियाली जल्द ही कम हो जाएगी। जब पृथ्वी को पानी नहीं मिलेगा, तो सभी वनस्पतियां मर जाएंगी और बंजर भूमि में बदल जाएगी। विभिन्न मौसमों की घटना जल्द ही समाप्त हो जाएगी। पृथ्वी एक बड़ी अंतहीन गर्मी में फंस जाएगी। इसके अलावा, जलीय जानवरों का घर उनसे ले लिया जाएगा। इसका मतलब है कि हमें देखने के लिए कोई जलीय जीव नहीं मिलेगा। सबसे महत्वपूर्ण बात, अगर हम अभी पानी का संरक्षण नहीं करेंगे तो जीवों के सभी रूप विलुप्त हो जाएंगे।

निष्कर्ष में, पानी के अनावश्यक उपयोग को एक बार में रोक दिया जाना चाहिए। हर एक व्यक्ति को पानी के संरक्षण और संतुलन को बहाल करने के लिए काम करना चाहिए। यदि नहीं, तो हम सभी जानते हैं कि परिणाम क्या होने वाले हैं। तो यह हम सबकी प्राथमिक जिम्मेदारी बनती है कि हम जल संरक्षण में अपना योगदान दे। क्योंकि यह एक गैर-नवीकरणीय संसाधन है। हम इसे उत्पादित नहीं कर सकते है हम केवल इसे संरक्षिक कर सकते है। तो आइये हम सब एकसाथ मिलकर यह प्रण ले कि पानी को बचने की हर संभव कोशिश करेंगे।

Add new comment

3 + 1 =

Please wait while the page is loading