सब से बड़ी आज्ञा

सन्त लूकस का सुसमाचार
10:25-37

किसी दिन एक शास्त्री आया और ईसा की परीक्षा करने के लिए उसने यह पूछा, "गुरूवर! अनन्त जीवन का अधिकारी होने के लिए मुझे क्या करना चाहिए?" ईसा ने उस से कहा, "संहिता में क्या लिखा है?" तुम उस में क्या पढ़ते हो?" उसने उत्तर दिया, "अपने प्रभु-ईश्वर को अपने सारे हृदय, अपनी सारी आत्मा, अपनी सारी शक्ति और अपनी सारी बुद्धि से प्यार करो और अपने पड़ोसी को अपने समान प्यार करो"। ईसा ने उस से कहा, "तुमने ठीक उत्तर दिया। यही करो और तुम जीवन प्राप्त करोगे।" इस पर उसने अपने प्रश्न की सार्थकता दिखलाने के लिए ईसा से कहा, "लेकिन मेरा पड़ोसी कौन है?" ईसा ने उसे उत्तर दिया, "एक मनुष्य येरूसालेम से येरीख़ो जा रहा था और वह डाकुओं के हाथों पड़ गया। उन्होंने उसे लूट लिया, घायल किया और अधमरा छोड़ कर चले गये। संयोग से एक याजक उसी राह से जा रहा था और उसे देख कर कतरा कर चला गया। इसी प्रकार वहाँ एक लेवी आया और उसे देख कर वह भी कतरा कर चला गया। इसके बाद वहाँ एक समारी यात्री आया और उसे देख कर उस को तरस हो आया। वह उसके पास गया और उसने उसके घावों पर तेल और अंगूरी डाल कर पट्टी बाँधी। तब वह उसे अपनी ही सवारी पर बैठा कर एक सराय ले गया और उसने उसकी सेवा शुश्रूषा की। दूसरे दिन उसने दो दीनार निकाल कर मालिक को दिये और उस से कहा, ’आप इसकी सेवा-शुश्रूषा करें। यदि कुछ और ख़र्च हो जाये, तो मैं लौटते समय आप को चुका दूँगा।’ तुम्हारी राय में उन तीनों में कौन डाकुओं के हाथों पड़े उस मनुष्य का पड़ोसी निकला?" उसने उत्तर दिया, "वही जिसने उस पर दया की"। ईसा बोले, "जाओ, तुम भी ऐसा करो"।

Add new comment

1 + 13 =

Please wait while the page is loading