सीरिया में अपहरण के शिकार जेस्विट फादर की कोई जानकारी नहीं

जेस्विट फादर पाओलो दल ओलियो

इटली के एक संगठन ने प्रेस सम्मेलन का आयोजन कर, दुनिया को फादर पाओलो दल ओलियो के अपहरण की याद दिलायी, जो कई अन्य लोगों की तरह इस्लामी स्टेट के आतंकवादियों के कब्जे के दौरान सीरिया से लापता हो गये थे।

जेस्विट फादर पाओलो दल ओलियो छः वर्षों पहले 29 जुलाई 2013 को, सीरिया के रक्का शहर से लापता हो गये थे।

यह क्षेत्र उस समय इस्लामिक स्टेट के कब्जे में था और पत्यक्षदर्शियों का कहना है कि इताली मिशनरी का अपहरण शहर में चलते समय किया गया था। उसके बाद से उनके बारे कोई समाचार नहीं है।

पड़ोसियों से प्रेम

सोमवार को फादर पाओलो के मित्रों के एक दल ने रोम में एक प्रेस सम्मेलन का आयोजन किया था ताकि उनके गायब होने की दुखद घटना की याद को ताजा किया जा सके।

फादर पाओलो की बहन फ्राँचेस्का ने वाटिकन रेडियो से अपने भाई के बारे बातें की।

उन्होंने कहा, "पाओलो मेरे लिए एक ऐसे व्यक्ति हैं जिन्होंने हमेशा अपने जीवन को अर्थ देने, ईमानदार रहने एवं पड़ोसियों से प्रेम करने का उदाहरण देने की कोशिश की है। उन्होंने पाया कि ख्रीस्तियों एवं मुस्लिम लोगों के बीच संबंध में प्रेम जीता और शरीरधारण करता है।

खोये हुओं का भाग्य

फादर पाओलो की बहन ने हाल में संत पापा फ्राँसिस द्वारा सीरिया के राष्ट्रपति बसर अल अस्सद को लिखे पत्र की सराहना की।

अपने पत्र में संत पापा फ्राँसिस ने सीरियाई सरकार से आग्रह किया था कि वह परिवारों को अपने प्रियजनों की स्थिति की जानकारी मुहैया कराये।

फ्राँचेस्का ने कहा कि संत पापा का संदेश दिखलाता है कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को सीरिया के संघर्ष एवं इसके गंभीर परिणाम के बारे लगातार याद दिलाया जाना चाहिए।

अंतरधार्मिक वार्ता के लिए एक हृदय

फादर पाओलो अंतरधार्मिक वार्ता एवं मेल-मिलाप के कार्यों में गंभीरता से जुड़े थे। उनकी एक परियोजना थी दमिश्क के निकट 6वीं शताब्दी की एक अंतरधार्मिक- सांस्कृतिक केंद्र का रूपांतरण। उन्होंने संत मूसा के मठ की पुनःस्थापन करने एवं उसके अंदर प्राचीन सीरियाई कला को बचाने में 30 साल गुजारा।

यही वह प्रार्थना एवं मुलाकात का स्थान है जहाँ मुस्लिम और ख्रीस्तीय शांति से मुलाकात करते हैं। उन्होंने कहा कि फादर पाओलो की धरोहर हमेशा बनी रहेगी।

Add new comment

6 + 8 =

Please wait while the page is loading