सात साल बाद दिल्ली की निर्भया को मिला इंसाफ

निर्भया की माँ और चारों दोषि

दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया के दुष्कर्मियों का डेथ वॉरंट जारी कर दिया है। 22 जनवरी को सुबह 7 बजे इन आरोपियों को फांसी दी जाएगी। निर्भया के माता-पिता की याचिका पर मंगलवार को फैसला सुनाते हुए पटियाला हाउस कोर्ट ने कहा- ''चारों दोषियों अक्षय कुमार सिंह (31), पवन गुप्ता (25), मुकेश (32) और विनय शर्मा (26) को 22 जनवरी को सुबह 7 बजे तिहाड़ जेल में फांसी दी जाए।'' फैसला एडिशनल सेशन जज सतीश कुमार अरोड़ा ने सुनाया।निर्भया की मां आशा देवी ने कहा कि बेटी को इंसाफ मिल गया है। दोषियों की फांसी देश की महिलाओं को ताकत देगी। डेथ वॉरंट के फैसले से लोगों का न्यायपालिका पर भरोसा मजबूत हुआ। निर्भया के पिता बद्रीनाथ सिंह ने कहा- मैं अदालत के फैसले से खुश हूं। यह फैसला इस तरह का अपराध करने वालों के मन में डर पैदा करेगा।लेकिन अब सवाल ये हैं की हमारे देश इन सात सालो में न जाने कितनी ही लड़कियों के साथ बलात्कार हुवा हैं, उन के आरोपियों को फांसी की सजा कब होगीं। मध्यप्रदेश में ही अब तक 28 दोषियों को स्पेशल और सेशन कोर्ट से फांसी की सजा हो चुकी है। लेकिन फांसी के फंदे तक कोई नहीं पहुंचा है। इनके मामलों की सुनवाई अभी अपर कोर्ट में चल रही है। ऐसे में निर्भया मामले में सजा आने के बाद लोग एक बार फिर से ये सवाल पूछ रहे हैं ।

Add new comment

9 + 9 =

Please wait while the page is loading