कार्डिनल ओर्तेगा का निधन संत पापा का शोक संदेश

क्यूबा के सेवानिवृत कार्डिनल जैम लुकस ओर्तेगा वाई अलामिनो का निधन

क्यूबा के सेवानिवृत कार्डिनल जैम लुकस ओर्तेगा वाई अलामिनो का निधन 26 जुलाई को हो गया। उन्होंने 34 वर्षों तक क्यूबा की राजधानी हवाना में महाधर्माध्यक्ष के रूप में अपनी महत्वपूर्ण सेवा दी है।

कार्डिनल ओर्तेगा 82 साल के थे और कैंसर की बीमारी से पीड़ित थे। हवाना के महाधर्माध्यक्ष जुवन देला करिदाद गारचा रोड्रिगेज द्वारा जारी एक वक्तव्य में क्यूबा के धर्माध्यक्षों ने उनके गुणों और प्रेरितक उत्साह पर प्रकाश डाला है। उन्होंने कहा है कि कार्डिनल ओर्तेगा का आदर्शवाक्य था "हम इस अमूल्य निधि को मिट्टी के घड़े में रखते हैं" और "मेरी कृपा तुम्हारे लिए पर्याप्त है।" वक्तव्य में कहा गया है कि यह वाक्य उनकी आध्यात्मिकता में परिलक्षित होती है। आज हम उनकी अनुपस्थिति से दुःखी हैं। जब हम उन्हें कृतज्ञता एवं स्नेह के साथ याद कर रहे हैं तो हमें इस बात से प्रोत्साहन मिल रहा है कि वे आध्यात्मिक रूप से हमारे बीच रहेंगे और हमारा साथ देंगे। उन्होंने अपने स्नेहिल मुस्कान, अपनी दूरदर्षिता, विवेकशीलता और पुरोहिताई के साक्ष्य एवं दुःख उठाने द्वारा हमारे लिए आदर्श प्रस्तुत किया है।

कार्डिनल ओर्तेगा

सेवानिवृत कार्डिनल जैम लुकस ओर्तेगा वाई अलामिनो

कार्डिनल ओर्तेगा का जन्म मातानजास धर्मप्रांत में 18 अक्टूबर 1936 को हुआ था। 2 अगस्त 1964 को उनका पुरोहिताभिषेक हुआ था। 4 दिसम्बर 1978 को संत पापा जॉन पौल द्वितीय ने उन्हें पिनार देल रियो का धर्माध्यक्ष नियुक्त किया और 20 नवम्बर 1981 को वे हवाना के संत ख्रिस्तोबल के महाधर्माध्यक्ष नियुक्त किये गये जहाँ, उन्होंने 34 सालों कर अपनी सेवाएँ दीं। सन् 1991 में उन्होंने कारितास हवाना की स्थापना की।

सन् 1998 में उन्होंने क्यूबा में संत पापा जॉन पौल द्वितीय और सन् 2012 में संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें का स्वागत किया था। उन्होंने सितम्बर 2015 में संत पापा फ्राँसिस का भी स्वागत किया था और उसके बाद 12 फरवरी 2016 में संत पापा फ्राँसिस ने रूस और मोस्को के प्राधिधर्माध्यक्ष किरिल से मुलाकात की थी।

वे संत पापा जॉन पौल द्वितीय द्वारा 26 नवम्बर 1994 को कार्डिनल बनाये गये थे और उन्होंने 2005 के कॉनक्लेव में संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें के चुनाव में भाग लिया था। उन्होंने 2013 के कॉनक्लेव में भी भाग लिया जिसमें संत पापा फ्राँसिस को कलीसिया का परमाध्यक्ष चुना गया। 24 अप्रैल 2016 को त्यागपत्र देकर वे हवाना के संत ख्रीस्तोबल के सेवानिवृत महाधर्माध्यक्ष बने।

21 जनवरी 1998 को संत पापा जॉन पौल द्वितीय क्यूब के राष्ट्रपति से मुलाकात करते हुए

कार्डिनल ओर्तेगा के निधन के साथ कार्डिनलों की कुल संख्या 217 हो गयी है जिनमें से 120 कार्डिनल संत पापा के चुनाव में भाग ले सकते हैं। उनके निधन के साथ क्यूबा में कोई भी कार्डिनल नहीं रह गये हैं।

संत पापा का शोक संदेश

संत पापा फ्राँसिस ने कार्डिनल ओर्तेगा के निधन की खबर सुन गहन शोक व्यक्त किया।

संत पापा फ्राँसिस की ओर से वाटिकन राज्य सचिव कार्डिनल पीयेत्रो परोलिन ने हवाना के महाधर्माध्यक्ष जुवन देला करिदाद गारचा रोड्रेगज को एक संदेश भेजकर कहा, "संत पापा फ्राँसिस ने बड़े दुःख के साथ हवाना के सेवानिवृत महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल जैम लुकस ओर्तेगा के निधन की खबर सुनी।" वे उनके प्रियजनों को अपनी हार्दिक संवेदना प्रदान करते हैं।

कार्डिनल परोलिन ने लिखा कि संत पापा ने स्वर्गीय कार्डिनल द्वारा कलीसिया और भाई-बहनों की सेवा के लिए उनके प्रति कृतज्ञता अर्पित करते हुए उनकी आत्मा की अनन्त शांति हेतु प्रार्थना की है। संत पापा ने सभी शोकित प्रियजनों को अपना प्रेरितिक आशीर्वाद दिया है।

सेवानिवृत कार्डिनल जैम लुकस ओर्तेगा 2016

Add new comment

4 + 5 =

Please wait while the page is loading